पीछे से वार करते हैं वे जनाब आली....

झुंझलाके क़त्ल करते हैं वे जनाब आली .

  नुमाइंदगी करते हैं वे जनाब आली ,

जजमान बने फिरते हैं वे जनाब आली .
...............................................................
देते हैं जख्म हमें रुख बदल-बदल ,
छिड़कते फिर नमक हैं वे जनाब आली .
....................................................................
मुखालिफों को हक़ नहीं मुहं खोलने का है ,
जटल काफिये उड़ाते हैं वे जनाब आली .
................................................................
ज़म्हूर को कहते जो जनावर जूनून में ,
फिर बात से पलटते हैं वे जनाब आली .
..................................................................
फरेब लिए मुहं से मिलें हाथ जोड़कर ,
पीछे से वार करते हैं वे जनाब आली .
........................................................................
मैदान-ए-जंग में आते हैं ऐयार बनके ये ,
ठोकर बड़ों के मारते हैं वे जनाब आली .
......................................................................
जम्हूरियत है दागदार इनसे ही ''शालिनी ''
झुंझलाके क़त्ल करते हैं वे जनाब आली .
...............................................................
                      शालिनी कौशिक 
                               [कौशल ]

शब्दार्थ -नुमाइंदगी-प्रतिनिधित्व ,जनाब आली -मान्य महोदय ,जजमान-यजमान ,जटल काफिये उड़ाना-बेतुकी व् झूठी  बाते करना ,जम्हूर-जनसमूह ,जम्हूरियत-लोकतंत्र .

टिप्पणियाँ

Nitish Tiwary ने कहा…
शानदार प्रस्तुति।
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
iwillrocknow.com
Book river Press ने कहा…
https://www.blogger.com/profile/04130609634674211033
puneet garg ने कहा…
Thanks For sharing this article with us. Keep it up this kind of work in Future

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

aaj ka yuva verg

समाज के लिए अभिशाप बनता नशा‏