शुक्रवार, 2 दिसंबर 2011

रहे सब्ज़ाजार,महरे आलमताब भारत वर्ष हमारा.


रहे सब्ज़ाजार,महरे आलमताब भारत वर्ष हमारा.


     ग़ज़ल 
तू ही खल्लाक ,तू ही रज्ज़ाक,तू ही मोहसिन है हमारा.
रहे सब्ज़ाजार,महरे आलमताब भारत वर्ष हमारा.

एक आशियाँ बसाया हमने चैनो -अमन  का   ,
नाकाबिले-तकसीम यहाँ प्यार हमारा.

कुदरत के नज़ारे बसे हैं इसमें जा-ब-जा,
ये करता तज़्किरा है संसार हमारा.

मेहमान पर लुटाते हैं हम जान ये अपनी ,
है नूर बाज़ार-ए-जहाँ ये मुल्क  हमारा.

आगोश में इसके ही समां जाये ''शालिनी''
इस पर ही फ़ना हो जाये जीवन ये हमारा.

कुछ शब्द अर्थ-
खल्लाक-पैदा करने वाला,रज्ज़ाक-रोज़ी देने वाला
मोहसिन-अहसान करने वाला,सब्ज़ाजार-हरा-भरा
महरे आलमताब -सूरज,नाकाबिले-तकसीम--अविभाज्य
तज़्किरा-चर्चा,बाज़ार-ए-जहाँ--दुनिया का  बाज़ार
आगोश-गोद या बाँहों में,जा-ब-जा--जगह-जगह
शालिनी कौशिक

26 टिप्‍पणियां:

रेखा ने कहा…

बहुत खुबसूरत अभिव्यक्ति ..

kshama ने कहा…

एक आशियाँ बसाया हमने चैनो -अमन का ,
नाकाबिले-तकसीम यहाँ प्यार हमारा.
Kya gazab alfaaz hain!Pooree gazal bemisaal hai!

Atul Shrivastava ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!चर्चा मंच में शामिल होकर चर्चा को समृध्दp बनाएं....

डा.राजेंद्र तेला"निरंतर" Dr.Rajendra Tela,Nirantar" ने कहा…

आगोश में इसके ही समां जाये ''शालिनी''
इस पर ही फ़ना हो जाये जीवन ये हमारा.
bahut khoobsoorat zazbaa aapkaa
aaj hamne jaanaa

Bhola-Krishna ने कहा…

मातृभूमि के प्रति प्रगाढ़ प्रीति की भावनाओं से ओत प्रोत आपकी रचना हृदय छू गयी !शब्दार्थ देने के लिए धन्यवाद !आभार ! भोला - कृष्णा

सदा ने कहा…

कुदरत के नज़ारे बसे हैं इसमें जा-ब-जा,
ये करता तज़्किरा है संसार हमारा.

मेहमान पर लुटाते हैं हम जान ये अपनी ,
है नूर बाज़ार-ए-जहाँ ये मुल्क हमारा.
वाह ...बहुत ही बढि़या।

Anita ने कहा…

वतन के लिये मुहब्बतों से भरी बहुत उम्दा गजल !

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

khoobsoorat

Jyoti Mishra ने कहा…

simply beautiful n full of elegance

दिनेश पारीक ने कहा…

मैं दिनेश पारीक आज पहली बार आपके ब्लॉग पे आया हु और आज ही मुझे अफ़सोस करना पड़ रहा है की मैं पहले क्यूँ नहीं आया पर शायद ये तो इश्वर की लीला है उसने तो समय सीमा निधारित की होगी
बात यहाँ मैं आपके ब्लॉग की कर रहा हु पर मेरे समझ से परे है की कहा तक इस का विमोचन कर सकू क्यूँ की इसके लिए तो मुझे बहुत दिनों तक लिखना पड़ेगा जो संभव नहीं है हा बार बार आपके ब्लॉग पे पतिकिर्या ही संभव है
अति सूंदर और उतने सुन्दर से अपने लिखा और सजाया है बस आपसे गुजारिश है की आप मेरे ब्लॉग पे भी आये और मेरे ब्लॉग के सदशय बने और अपने विचारो से अवगत करवाए
धन्यवाद
दिनेश पारीक

दिनेश पारीक ने कहा…

मैं दिनेश पारीक आज पहली बार आपके ब्लॉग पे आया हु और आज ही मुझे अफ़सोस करना पड़ रहा है की मैं पहले क्यूँ नहीं आया पर शायद ये तो इश्वर की लीला है उसने तो समय सीमा निधारित की होगी
बात यहाँ मैं आपके ब्लॉग की कर रहा हु पर मेरे समझ से परे है की कहा तक इस का विमोचन कर सकू क्यूँ की इसके लिए तो मुझे बहुत दिनों तक लिखना पड़ेगा जो संभव नहीं है हा बार बार आपके ब्लॉग पे पतिकिर्या ही संभव है
अति सूंदर और उतने सुन्दर से अपने लिखा और सजाया है बस आपसे गुजारिश है की आप मेरे ब्लॉग पे भी आये और मेरे ब्लॉग के सदशय बने और अपने विचारो से अवगत करवाए
धन्यवाद
दिनेश पारीक

amrendra "amar" ने कहा…

सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति है आपकी.

आभार.

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

Rohit ने कहा…

desh prem se bhari hue isse achi gazal kabhi nhi dekhe...aap sahi mai bahut unda likhten hain!

Ankur jain ने कहा…

खुबसूरत अभिव्यक्ति...नववर्ष की वधाई

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

आप को सपरिवार नव वर्ष 2012 की ढेरों शुभकामनाएं.

इस रिश्ते को यूँ ही बनाए रखना,
दिल मे यादो क चिराग जलाए रखना,
बहुत प्यारा सफ़र रहा 2011 का,
अपना साथ 2012 मे भी इस तहरे बनाए रखना,
!! नया साल मुबारक !!

आप को सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया, आज का आगरा और एक्टिवे लाइफ, एक ब्लॉग सबका ब्लॉग परिवार की तरफ से नया साल मुबारक हो ॥


सादर
आपका सवाई सिंह राजपुरोहित
एक ब्लॉग सबका

आज का आगरा

रश्मि ने कहा…

bahut achhi bhawnayen hain aapki.....badhai

कविता रावत ने कहा…

मातृभूमि के प्रति प्रगाढ़ प्रीति की भावनाओं से ओत प्रोत बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति ...
नववर्ष की आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनायें!

chirag ने कहा…

beautiful ghazal
mere blog par bhi aaiyega
umeed kara hun aapko pasand aayega
http://iamhereonlyforu.blogspot.com/

Sanju ने कहा…

बेहतरीन अभिव्यक्ति....
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

आशा ने कहा…

very nice :-
Asha

avanti singh ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति..... आपको गणतन्त्र दिवस की शुभकामनायें

dinesh aggarwal ने कहा…

बेहतरीन रचना.....बधाई....
कृपया इसे भी पढ़े-
क्या यही गणतंत्र है

Fun and Learns ने कहा…

Welcome to www.funandlearns.com

You are welcome to Fun and Learns Blog Aggregator. It is the fastest and latest way to Ping your blog, site or RSS Feed and gain traffic and exposure in real-time. It is a network of world's best blogs and bloggers. We request you please register here and submit your precious blog in this Blog Aggregator.

Add your blog now!

Thank you
Fun and Learns Team
www.funandlearns.com

Shanti Garg ने कहा…

बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

avanti singh ने कहा…

bahut hi umda rachna,acha likhti hai aap...

शत शत नमन शंकर दयाल शर्मा जी को

विकिपीडिया से साभार   आज जन्मदिन है देश के  नौवें राष्ट्रपति  डाक्टर शंकर दयाल शर्मा जी का और वे सदैव मेरे लिए श्रद्धा के पात्र रहेंगे...