संदेश

जज नियुक्ति -NO NEED SUGGESTION OF GOVT

चित्र
जजों की नियुक्ति को लेकर केंद्र सरकार व् सुप्रीम कोर्ट में विवाद फिर से गहरा गया है ,जहाँ सुप्रीम कोर्ट का कोलेजियम जजों के नाम की सिफारिश नियुक्ति हेतु कर पहली पसंद जाहिर करता है वहीँ दूसरी व् अंतिम पसंद केंद्र सरकार की होती है जिसके चलते कोलेजियम द्वारा की गयी छंटनी और संक्षिप्त बनकर रह जाती है जिसका परिणाम अभी हाल ही में जस्टिस के एम् जोसफ  को कोलेजियम द्वारा सिफारिश किये जाने के बाद  केंद्र सरकार द्वारा नियुक्ति न दिए जाने  रूप में भुगतना पड़ा ,
         और अभी इसी स्थगन को लेकर एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश जी डी इनामदार द्वारा सुप्रीम कोर्ट में एक पीआईएल दायर की गयी है -
केंद्र कॉलेजियम की सिफारिशों पर “पिक एंड चूज़” नहीं कर सकता, जस्टिस जोसेफ की सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति पर केंद्र के कदम को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती ...
 महाराष्ट्र के सोलापुर के एक सेवानिवृत्त जिला न्यायाधीश जीडी इनामदार द्वारा दायर पीआईएल में न्यायमूर्ति जोसेफ को परिणामस्वरूप वरिष्ठता के संबंध में नियुक्ति के वारंट जारी करने के लिए केंद्र को निर्देश देने की मांग की गई है। ...
इनामदार ने कहा कि उन्हें कोर्ट …

आसाराम बेटियों का सहारा

चित्र
आसाराम दोषी करार, बिटिया के पिता ने कोर्ट का किया धन्यवाद जोधपुर में आसाराम और उसके सहयोगियों को दोषी करार दिए जाने के बाद बिटिया के पिता के चेहरे पर खुशी देखने को मिली। उन्होंने अपने मकान से बाहर आकर मीडिया से कहा कि कोर्ट ने आसाराम और उसके सहयोगियों को दोषी करार दिया है, इसके लिए वह कोर्ट का धन्यवाद करते हैं।  जोधपुर में आसाराम और उसके सहयोगी शिल्पी,शरत को दोषी करार दिए जाने के बाद पहली प्रतिक्रिया देते हुए बिटिया के पिता की पहली प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कहा कि कोर्ट के फैसले का सम्मान करता हूं। आसाराम और उसके सहयोगियों को आरोपी से दोषी करार दिए जाने पर कोर्ट का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि जिन गवाहों को मरवाया गया, जिन पर हमला कराया गया, जिसे गायब कराया गया, उन मामलों में भी आसाराम और उसके लोगों को कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी। आसाराम केस में बिटिया के पिता ने सबसे पहले मीडिया को धन्यवाद दिया फिर न्यायपालिका पर भरोसा जताया। बोले कि इस लड़ाई में सभी ने मेरा साथ दिया।         ये तो रही एक बिटिया के पिता के ह्रदय की खुशी की बात लेकिन यह फैसला जिस वक़्त आया है वह करोड़ों बिटियाओं के माँ-बाप …

सरकार फिर सफल ?

चित्र
सुप्रीम कोर्ट ने 20 मार्च को अपने फैसले में एस-सी -एस -टी एक्ट के तहत तुरंत गिरफ़्तारी पर रोक लगा दी और साथ ही सुभाष महाजन के इस केस में अग्रिम जमानत दिए जाने के निर्देश भी दिए ,इसी फैसले के मद्देनज़र दलित संगठनों ने 2 अप्रैल को विरोध स्वरुप भारत बंद बुलाया और सोशल मीडिया के स्तर पर इसे सफल बनाने की कार्यवाही भी आरम्भ कर दी ,सरकार के मुखिया प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी लगातार कहते रहे कि हम पुनर्विचार याचिका दाखिल करेंगे लेकिन अफ़सोस 2 अप्रैल से पहले सरकार को इसके लिए समय ही नहीं मिला ,
         2 अप्रैल आयी ,आनी ही थी संगठन इकट्ठे हो गए ,पूरे भारत में भारत बंद का आयोजन जोर-शोर से हुआ और ऐसी ही आशा की भी जा रही थी कम से कम जनता तो ऐसा ही सोच रही थी और सरकार या शाह की तरह वह निश्चिन्त नहीं  थी इसीलिए उस दिन बसों में भीड़ कम थी ,सदियों भी जिन बसों में बैठने को आधी सीट भी नसीब नहीं होती उस दिन दो-दो सीट एक-एक को मिल रही थी और हुआ वही जिसके इंतज़ाम शाह की सोच में भी  थे क्या हम ऐसा विश्वास कर सकते हैं ?
         2 अप्रैल को देश के दस राज्यों में उग्र आंदोलन हुए ,इनमे 15 लोगों की मौत हुई ,मध…

भगवा=एकता

चित्र
सरकारी भवनों का रंग तो भाजपानीत सरकार ने पलटा ही था अब भाजपा इस देश को पूर्णतया भगवा रंग में रंगने की साज़िश को अंजाम देने पर आ गयी है जिससे सारे विश्व में भारत की पहचान भगवा रंग ही रह जाये और इसी कड़ी में अब भाजपा लेकर आयी है आपदा प्रबंधन टीम के लिए  भगवा रंग और उस पर तुर्रा ये कि इसमें काला रंग भी है  ऐसा इसलिए कि यह टीम अलग दिखाई दे ,
             सम्पूर्ण विश्व में जिस भारत की पहचान अनेकता में एकता वाली संस्कृति की रही है भाजपा उस पहचान को पूरी तरह मटियामेट करने पर आ गयी है ,आज तक किसी भी सैन्य टुकड़ी की वर्दी ऐसी नहीं रही जो  देश के किसी भी राजनीतिक दल की खास पहचान हो किन्तु भाजपा कॉंग्रेस मुक्त भारत के साथ साथ लगता है देश के संविधान व् संस्कृति को बदलने की ठान कर आयी है,
        पुलिस के किसी भी दल की वर्दी ऐसी होती है जो आमतौर पर एकदम से प्रकृति के रंग से मेल वाली हो और लोगों में सुरक्षा का भरोसा उत्पन्न करने वाली हो लेकिन जो वर्दी एसडीआरएफ टीम की रखी गयी है वह देश में भेदभाव की जड़ें और गहरी खोद देगी क्योंकि यही रंग हिन्दुओं के साधु महात्मा धारण करते हैं ऐसे में मुस्लमान सम…

औरत की तकदीर

चित्र
औरत की तकदीर में देखो ,हरदम रोना-धोना है , मिलना उसको नहीं है कुछ भी ,सब कुछ हर पल खोना है , -------------------------------------------------------------------------- तड़प रहेगी उसके दिल में ,जग में कुछ कर जाने की , नहीं पायेगी वो कुछ भी कर ,बोझ जनम का ढोना है , ---------------------------------------------------------------------------- सपना था इस जीवन में कि सबके काम वो आएगी , सच्चाई ये उसका जीवन ,सबकी रोटी पोना है , ----------------------------------------------------------------------- टूट रही है तिल-तिल गलकर ,कुछ भी हाथ न आता है , पता चल गया भाग्य में उसके ,थक हारकर सोना है , ------------------------------------------------------------------------ नारी जीवन में देने को ,प्रभु की झोली खाली है , ''शालिनी '' का मन तड़पाकर ,भला देव का होना है , --------------------------------------------------------------------------- शालिनी कौशिक  [कौशल ]

सुप्रीम कोर्ट से टक्कर लेती खाप पंचायतें

चित्र
सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को खाप पंचायत को लेकर बड़ा फैसला दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने खाप पंचायतों को झटका देते हुए कहा कि शादी को लेकर खाप पंचायतों के फरमान गैरकानूनी हैं। अगर दो बालिग अपनी मर्जी से शादी कर रहे हैं तो कोई भी इसमें हस्तक्षेप नहीं कर सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने आगे यह भी कहा है कि जब तक केंद्र सरकार इस मसले पर कानून नहीं लाती तब तक यह आदेश प्रभावी रहेगा किन्तु लगता है खाप पंचायतें भी सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ कमर कसकर बैठी हैं ,             सुप्रीम कोर्ट के अनुसार दो बालिगों की अपनी मर्जी की शादी में किसी को हस्तक्षेप का अधिकार नहीं है किन्तु गठवाला खाप के बहावड़ी थांबेदार चौधरी बाबा श्याम सिंह का कहना है -''सगोत्रीय विवाह मंजूर नहीं होगा क्योंकि इससे संस्कृति को खतरा है अपने गोत्र को बचाकर कहीं भी शादी की जा सकती है ,''            सुप्रीम कोर्ट ने जो निर्णय दिया वह हिन्दू विवाह अधिनियम १९५५ की रौशनी में दिया जिसमे सगोत्रीय व् सप्रवर विबाह मान्य हैं किन्तु खाप जिस रौशनी में काम करती हैं वे प्राचीन हिन्दू धर्मशास्त्रों में रहा उनका विश्वास है ,जिसके अनुस…

जीना है तो जल बचा -ओ ! इंसान

चित्र