अलबेली ये शीत लहर है -happy new year -2018

new year images beautiful के लिए इमेज परिणाम

अमरावती सी अर्णवनेमी पुलकित करती है मन मन को ,
अरुणाभ रवि उदित हुए हैं खड़े सभी हैं हम वंदन को .


अलबेली ये शीत लहर है संग तुहिन को लेकर  आये  ,
घिर घिर कर अर्नोद छा रहे कंपित करने सबके तन को .


मिलजुल कर जब किया अलाव  गर्मी आई अर्दली बन ,
अलका बनकर ये शीतलता  छेड़े जाकर कोमल तृण को .


आकंपित हुआ है जीवन फिर भी आतुर उत्सव को ,
यही कामना हों प्रफुल्लित आओ मनाएं हर क्षण को .


पायें उन्नति हर पग चलकर खुशियाँ मिलें झोली भरकर ,
शुभकामना देती ''शालिनी''मंगलकारी हो जन जन को .
                     शालिनी कौशिक
                         [कौशल]


शब्दार्थ :अमरावती -स्वर्ग ,इन्द्रनगरी ,अरुणिमा -लालिमा ,अरुणोदय-उषाकाल ,अर्दली -चपरासी ,अर्नोद -बादल ,तुहिन -हिम ,बर्फ ,अर्नवनेमी -पृथ्वी 

टिप्पणियाँ

Team Book Bazooka ने कहा…
Happy New year, This new year become published author in just 30 days, send request :http://www.bookbazooka.com/
Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति
नववर्ष मंगलमय हो!
Ravindra Singh Yadav ने कहा…
नमस्ते,
आपकी यह प्रस्तुति BLOG "पाँच लिंकों का आनंद"
( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में
गुरूवार 02-01-2018 को प्रकाशनार्थ 900 वें अंक ( विशेषांक ) में सम्मिलित की गयी है।
प्रातः 4:00 बजे के उपरान्त प्रकाशित अंक चर्चा हेतु उपलब्ध हो जायेगा।
चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर।
सधन्यवाद।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

aaj ke neta