दुनिया सर झुकाती है रसूख देखकर इसका 🇮🇳

तिरंगा शान है अपनी ,फ़लक पर आज फहराए ,
फतह की ये है निशानी ,फ़लक पर आज फहराए .
...............................................
रहे महफूज़ अपना देश ,साये में सदा इसके ,
मुस्तकिल पाए बुलंदी फ़लक पर आज फहराए .
.............................................
मिली जो आज़ादी हमको ,शरीक़ उसमे है ये भी,
शाकिर हम सभी इसके फ़लक पर आज फहराए .
...............................
क़सम खाई तले इसके ,भगा देंगे फिरंगी को ,
इरादों को दी मज़बूती फ़लक पर आज फहराए .
..................................
शाहिद ये गुलामी का ,शाहिद ये फ़राखी का ,
हमसफ़र फिल हकीक़त में ,फ़लक पर आज फहराए .
..................................
वज़ूद मुल्क का अपने ,हशमत है ये हम सबका ,
पायतख्त की ये लताफत फ़लक पर आज फहराए .
........................
दुनिया सिर झुकाती है रसूख देख कर इसका ,
ख्वाहिश ''शालिनी''की ये फ़लक पर आज फहराए .


............................
शालिनी कौशिक
[कौशल]

टिप्पणियाँ

kuldeep thakur ने कहा…

जय मां हाटेशवरी.......

आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
आप की इस रचना का लिंक भी......
26/01/2020 रविवार को......
पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
शामिल किया गया है.....
आप भी इस हलचल में. .....
सादर आमंत्रित है......

अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
http s://www.halchalwith5links.blogspot.com
धन्यवाद
Rakesh Kaushik ने कहा…
जय हिन्द
Rohitas ghorela ने कहा…
तिरंगा ऊँचा रहे हमारा।
जय भारत।

नई पोस्ट पर आपका स्वागत है- लोकतंत्र 
Admin ने कहा…
आपका कहना बुल्कुल सही है.
लघु प्रेरणादायक सुविचार

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

''ऐसी पढ़ी लिखी से तो लड़कियां अनपढ़ ही अच्छी .''

सौतेली माँ की ही बुराई :सौतेले बाप का जिक्र नहीं