शनिवार, 25 मार्च 2017

चर्चा कार


करते हैं बैठ चर्चा,
        खाली ये जब भी होते,
कोई काम इनको करते
         मैने कभी न देखा.
...................................................
वो उसके साथ आती,
          उसके ही साथ जाती,
गर्दन उठा घुमाकर
           बस इतना सबने देखा.
...................................................
खाते झपट-झपट कर,
           औरों के ये निवाले,
अपनी कमाई का इन्हें
           टुकड़ा न खाते देखा.
....................................................
बेचारा उसे कहते,
         जिसकी ये जेब काटें,
कुछ करने के समय पर
           मौके से भागा देखा.
.....................................................
ठेका भले का इन पर,
        मालिक ये रियाया के,
फिर भी जहन्नुमों में
         इनको है बैठे देखा.
........................................................
शालिनी कौशिक
    (कौशल)
   

2 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (28-03-2017) को

"राम-रहमान के लिए तो छोड़ दो मंदिर-मस्जिद" (चर्चा अंक-2611)
पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Rebecca Cao ने कहा…

Hello, I’m Rebecca from NewsDog who is in charge of blogger partnership. We can provide traffic for your articles and revenue share every month. If you want to cooperate with us, please contact me: caoxue@hinterstellar.com

नमस्ते,

मैं न्यूजोड ऑपरेशन टीम से रेबेका हूं और मैं ब्लॉगर साझेदारी की प्रभारी हूं।

हम आपके साथ पार्टनरशिप करना चाहते हैं और हम आपके लेखों को अधिक ट्रैफ़िक प्रदान कर सकते हैं। अगर आपके लेख हमारी ऐप पर उच्च क्लिक रेट पाते हैं, तो हम आपके साथ अपना रेवेनुए हर महीने साँझा करेंगे।अगर आपकी इसमें दिलचस्पी है तो मुझे caoxue@hinterstellar.com पर मेल करें !!

समीक्षा - "ये तो मोहब्बत नहीं" - समीक्षक शालिनी कौशिक

समीक्षा -  '' ये तो मोहब्बत नहीं ''-समीक्षक शालिनी कौशिक उत्कर्ष प्रकाशन ,मेरठ द्वारा प्रकाशित डॉ.शिखा कौशिक 'नूतन...