आसाराम बेटियों का सहारा

आसाराम दोषी करार, बिटिया के पिता ने कोर्ट का किया धन्यवाद

टिप्पणियाँ

Dilbag Virk ने कहा…
आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 26.04.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2952 में दिया जाएगा

धन्यवाद
Rohitas ghorela ने कहा…
शीर्षक पढ़ के पहले थोडा अजीब लगा फिर पूरी पोस्ट पढ़ी तो पता चला कि किस लिए ऐसा शीर्षक लिखा गया है.

कभी कभी महिलाओ के हक के विरुद्ध महिलाएं खड़ी हो जाती है ये एक काला सच है.
सार्थक पोस्ट.
सार्थक प्रस्तुति

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

ऐसा साधु देखा कभी