रविवार, 12 दिसंबर 2010

pyar

प्यार का कोई मोल नहीं,
    मगर प्यार अनमोल नहीं,
       क्या प्यार नहीं खरीद सकता
          प्यार का एक बोल नहीं?
जहाँ में बाँटो प्यार जितना,
    मिले है उससे कहीं दुगना ,
        क्या यहाँ पर रहकर भी प्यारे
           नहीं जान सके मतलब इतना ?

3 टिप्‍पणियां:

shikha kaushik ने कहा…

bahut hi sunder bhavabhivyakti.best of luck...

Kunwar Kusumesh ने कहा…

खूबसूरत सन्देश

mahendra verma ने कहा…

एकदम ठीक बात,
प्यार बांटने से प्यार और बढ़ता है।

हस्ती ....... जिसके कदम पर ज़माना पड़ा.

कुर्सियां,मेज और मोटर साइकिल      नजर आती हैं हर तरफ और चलती फिरती जिंदगी      मात्र भागती हुई      जमानत के लिए      निषेधाज्ञा के...