नारी से भी वही मिलेगा जो तुम दोगे साथ निभाकर .

 Image result for indian woman in saree  with indian man  in dhoti-kurta  imagesImage result for indian woman in saree  with indian man  in dhoti-kurta  images

आज करूँ आगाज़ नया ये अपने ज़िक्र को चलो छुपाकर ,
कदर तुम्हारी नारी मन में कितनी है ये तुम्हें बताकर .
................................................................................................................
 जिम्मेदारी समझे अपनी सहयोगी बन काम करे ,
साथ खड़ी है नारी उसके उससे आगे कदम बढाकर .
...............................................................................
 बीच राह में साथ छोड़कर नहीं निभाता है रिश्तों को ,
अपने दम पर खड़ी वो होती ऐसे सारे गम भुलाकर .
.................................................................................................................
 कैद में रखना ,पीड़ित करना ये न केवल तुम जानो ,
जैसे को तैसा दिखलाया है नारी ने हुक्म चलाकर .
............................................................................................................
 धीर-वीर-गंभीर पुरुष का हर नारी सम्मान करे ,
आदर पाओ इन्हीं गुणों को अपने जीवन में अपनाकर .
...............................................................................................................
 जो बोओगे वो काटोगे इस जीवन का सार यही ,
नारी से भी वही मिलेगा जो तुम दोगे साथ निभाकर .
....................................................................................................................
 जीवन रथ के नर और नारी पहिये हैं दो मान यही ,
''शालिनी''करवाए रु-ब-रु नर को उसका अक्स दिखाकर .
            
           शालिनी कौशिक
  [WOMAN ABOUT MAN]

टिप्पणियाँ

Digamber Naswa ने कहा…
सच कहा है हर शेर में ...
केवल नारी ही है जो ऐसा कर सकती है ...
jyoti dehliwal ने कहा…
नारी का सही चित्रण किया है आपने.
रविकर ने कहा…
आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।
Anita ने कहा…
नारी की महिमा को प्रकट करती सुंदर पंक्तियाँ !

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

अरे घर तो छोड़ दो

माचिस उद्योग है या धोखा उद्योग