शुक्रवार, 14 अगस्त 2015

ऐसे ही सिर उठाएगा ये मुल्क शान से -स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ‏


Independence Day Picture
फरमा रहा है फख्र से ,ये मुल्क शान से ,
कुर्बान तुझ पे खून की ,हर बूँद शान से।
..................................................
फराखी छाये देश में ,फरेब न पले ,
कटवा दिए शहीदों ने यूँ शीश शान से .
..................................................
देने को साँस लेने के ,काबिल वो फिजायें ,
कुर्बानी की राहों पे चले ,मस्त शान से .
..................................................
आज़ादी रही माशूका जिन शूरवीरों की ,
साफ़े की जगह बाँध चले कफ़न शान से .
.....................................................................
कुर्बानी दे वतन को जो आज़ाद कर गए ,
शाकिर है शहादत की हर  नस्ल  शान से .
.................................................................
इस मुल्क का गुरूर है वीरों की शहादत ,
फहरा रही पताका यूँ आज शान से .
...............................................................
मकरूज़ ये हिन्दोस्तां शहीदों तुम्हारा ,
नवायेगा सदा ही सिर सरदर शान से .
.........................................................................
पैगाम आज दे रही कुर्बानियां इनकी ,
घुसने न देना फिर कभी सियार  शान से .
..................................................................
करते हैं अदब दिल से अगर हम शहीदों का ,
छोड़ेंगे बखुशी सब मतभेद शान से .
.........................................................
इस मुल्क की हिफाज़त दुश्मन से कर सकें ,
सलाम मादरे-वतन कहें आप  शान से .
.....................................................
मुक़द्दस इस मुहीम पर कुर्बान ''शालिनी'' ,
ऐसे ही सिर उठाएगा ये मुल्क शान से .
शालिनी कौशिक
[कौशल]
[शब्दार्थ-सरदर-सब मिलकर एक साथ ]
My India My Pride

4 टिप्‍पणियां:

nilesh mathur ने कहा…

सुंदर रचना...

Sanjay Tripathi ने कहा…

बहुत सुंदर!स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

Sanjay Tripathi ने कहा…

बहुत सुंदर!स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

Sanjay Tripathi ने कहा…

बहुत सुंदर!स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

समीक्षा - "ये तो मोहब्बत नहीं" - समीक्षक शालिनी कौशिक

समीक्षा -  '' ये तो मोहब्बत नहीं ''-समीक्षक शालिनी कौशिक उत्कर्ष प्रकाशन ,मेरठ द्वारा प्रकाशित डॉ.शिखा कौशिक 'नूतन...