शनिवार, 17 अक्तूबर 2015

मैगी प्रकरण :सरकार वही कोक-पेप्सी वाली


लैब टेस्ट में पास हुई मैगी, जल्द ‌‌किचन में होगी वापसी

मैगी के 90 नमूनों की लैब मं हुई जांच
मैगी नूडल्स निर्माता कंपनी नेस्ले इंडिया के लिए राहत भरी खबर है। नेस्ले इंडिया ने दावा किया है कि मुंबई हाईकोर्ट के आदेश पर तीन प्रयोगशालाओं में हुई जांच में मैगी के सभी नमूने सही पाए गए हैं।
प्रयोगशाला टेस्ट में पास होने के बाद नेस्ले इंडिया ने राहत की सांस ली है। वहीं नेस्ले इंडिया का कहना है कि जल्द ही मैगी की बाजार में वापसी होगी।
मैगी में लेड की मात्रा की अधिक संभावना के चलते मुबंई हाईकोर्ट के आदेश पर मैगी के 90 नमूनों की तीन प्रयोगशलाओं में जांच की गई। कोर्ट के आदेश पर तीन प्रयोगशालाओं में यह जांच की गई।
नेस्ले इंडिया की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि मैगी के सभी 90 नमूनों के जांच के नतीजे आ गए हैं। सभी नमूने जांच में खरे पाए गए हैं।
तीन प्रयोगशालाओं में नेस्ले इंडिया के छह प्रकार के उत्पादों के सभी 90 नमूनों को सही कारार दिया गया है। इन सभी नमूनों में लेड की मात्रा उपयुक्त यानि कि सीमा के भीतर पाई गई।[साभार अमर उजाला ]
ये तो होना ही था हमने पहले ही अपनी एक पोस्ट में इसका जिक्र किया था लिंक ये है -[मैगी -ये भारत है भाई]मैगी पर बैन लगाने वाली सरकार भी वही है जो कोका कोला और पेप्सी पर लगाने वाई थी और बाद में उन्हें टेस्ट में पास होने का इनाम देने वाली थी आज वही सरकार मैगी पर पहले बैन लगाती है बाद में उसे टेस्ट में पास कहकर फिर से रसोई का रास्ता दिखाती है क्या है इसके पीछे केवल और केवल राजनीति और ये उनकी राजनीति है जो देश को स्वच्छ करने का दावा करते हैं और स्वच्छता के नाम पर स्वयं झाड़ू लेकर चलकर दिखाते हैं और सिर्फ देश ही नहीं दुनिया में भारत का नाम नीचे करने में पीछे नहीं रहते .इनकी सारी कार्यप्रणाली ही बताती है कि ये मात्र झंडा आगे लेकर चलने में विश्वास रखते हैं क्योंकि वह सबको दिखाई देता है बाद में वह झंडे को लेकर चलने वाला उस झंडे तले कब सो जाता है यह किसी को नहीं दीखता क्योंकि कहाँ है आज वह स्वच्छता अभियान जिसके लिए माननीय प्रधानमंत्री जी ने स्वयं झाड़ू उठकर सफाई की आज केवल विश्व में यह डंका बज रहा है कि भारत एक गन्दा देश है जहाँ प्रधानमंत्री तक को सफाई के लिए झाड़ू उठानी पड़ती है .जब मैगी टेस्ट में फ़ैल हो गयी थी तब बिना कोई सुधर किये वह कैसे टेस्ट में पास हो गयी इसका जवाब इस सरकार के पास तो रटा रटाया मिलेगा पर सही जवाब जनता जानती है सरकार के हाथों में कौनसी जादू की छड़ी है इसका पता जनता के पास है इसीलिए तो कहा भी गया है -
''ये जो पब्लिक है ये सब जानती है पब्लिक है
अजी अंदर क्या है ,अजी बाहर क्या है ,
अंदर क्या है ,बाहर क्या है ,
ये सब कुछ पहचानती है पब्लिक है .''

शालिनी कौशिक
[कौशल ]

1 टिप्पणी:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (18-10-2015) को "जब समाज बचेगा, तब साहित्य भी बच जायेगा" (चर्चा अंक - 2133) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

''बेटी को इंसाफ -मरने से पहले या मरने के बाद ?

   '' वकील साहब '' कुछ करो ,हम तो लुट  गए ,पैसे-पैसे को मोहताज़ हो गए ,हमारी बेटी को मारकर वो तो बरी हो गए और हम .....तारी...