फहराऊं बुलंदी पे ये ख्वाहिश नहीं रही .


फ़िरदौस इस वतन में फ़रहत नहीं रही ,
पुरवाई मुहब्बत की यहाँ अब नहीं रही .

......................................................................................

नारी का जिस्म रौंद रहे जानवर बनकर ,
हैवानियत में कोई कमी अब नहीं रही .

 .............................................................

 फरियाद करे औरत जीने दो मुझे भी ,
इलहाम रुनुमाई को हासिल नहीं रही .


............................................................................
अंग्रेज गए बाँट इन्हें जात-धरम में ,
इनमे भी अब मज़हबी मिल्लत नहीं रही .

 ..........................................................
 फरेब ओढ़ बैठा नाजिम ही इस ज़मीं पर ,
फुलवारी भी इतबार के काबिल नहीं रही .

 ........................................................
 लाये थे इन्कलाब कर गणतंत्र यहाँ पर ,
हाथों में जनता के कभी सत्ता नहीं रही .

 .......................................................
  वोटों में बैठे आंक रहे आदमी को वे ,
खुदगर्जी में कुछ करने की हिम्मत नहीं रही .

 ..........................................................
  इल्ज़ाम लगाते रहे ये हुक्मरान पर ,
अवाम अपने फ़र्ज़ की खाहाँ नहीं रही .  

......................................................................................

फसाद को उकसा रहे हैं रहनुमा यहाँ ,
ये थामे मेरी डोर अब हसरत नहीं रही .

 ...........................................................

खुशहाली ,प्यार,अमन बांटा फहर-फहर कर ,
भारत की नस्लों को ये ज़रुरत नहीं रही . 


................................................................................
गणतंत्र फ़साना बना हे ! हिन्दवासियों ,
जलसे से जुदा हाकिमी कीमत नहीं रही .

 ....................................................................

तिरंगा कहे ''शालिनी'' से फफक-फफक कर ,
फहराऊं बुलंदी पे ये ख्वाहिश नहीं रही .



शब्द अर्थ -फ़िरदौस-स्वर्ग ,पुरवाई-पूरब की ओर से आने वाली हवा ,इलहाम -देववाणी ,ईश्वरीय प्रेरणा ,रुनुमाई-मुहं दिखाई ,इन्कलाब -क्रांति ,खाहाँ -चाहने वाला ,मिल्लत-मेलजोल ,हाकिमी -शासन सम्बन्धी ,फ़साना -कल्पित साहित्यिक रचना ,इतबार-विश्वास ,नाजिम-प्रबंधकर्ता ,मंत्री ,फुलवारी-बाल बच्चे ,
        शालिनी कौशिक
            [कौशल]









टिप्पणियाँ

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

तिरंगा कहे ''शालिनी'' से फफक-फफक कर ,
फहराऊं बुलंदी पे ये ख्वाहिश नहीं रही .

मुबारक ये गणतंत्र जैसा भी है ,ईद मिलादुल नबी .
एक ही पोस्ट कई जगह!
बहुत उम्दा पेशकश!
Kalipad "Prasad" ने कहा…
बहुत सुन्दर प्रस्तुति :गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं
New post कृष्ण तुम मोडर्न बन जाओ !
Kalipad "Prasad" ने कहा…
बहुत सुन्दर प्रस्तुति :गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं
New post कृष्ण तुम मोडर्न बन जाओ !
सन्नाट अभिव्यक्ति...प्रभावी
सार्थक व् सुन्दर प्रस्तुति . हार्दिक आभार गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें .
हम हिंदी चिट्ठाकार हैं
ये समय खुद के अन्दर झाँक के देखने का है, खुशियाँ मनाने का नहीं
तिरंगा कहे ''शालिनी'' से फफक-फफक कर ,
फहराऊं बुलंदी पे ये ख्वाहिश नहीं रही .

बहुत सुंदर प्रभावी अभिव्यक्ति,,,,,,,

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
recent post: गुलामी का असर,,,
Johny Samajhdar ने कहा…
अति सुन्दर अभिव्यक्ति

Tamasha-E-Zindagi
Tamashaezindagi FB Page
Achyutam Keshvam ने कहा…
मार्मिक ग़ज़ल।बहुत सुन्दर।
Achyutam Keshvam ने कहा…
मार्मिक ग़ज़ल।बहुत सुन्दर।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

अरे घर तो छोड़ दो