शुक्रवार, 21 जून 2013

कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

orange rosesbouquet of spring roses 1


   न बदल पायेगा तकदीर तेरी कोई और ,
      तेरे हाथों में ही बसती है तेरी किस्मत की डोर ,
   अगर चाहेगा तो पहुंचेगा तू बुलंदी पर 
      तेरे जीवन में भी आएगा तरक्की का एक दौर .


तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने ,
    दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी .
 जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत ,
      कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .


तकदीर बनाने के लिए सुनले मेहरबां,
     दिल में जीतने का हमें जज्बा चाहिए .
छूनी है अगर आगे बढ़के तुझको बुलंदी 
      क़दमों में तेरे जोश और उल्लास चाहिए .



मायूस होके रुकने से कुछ होगा न हासिल ,
    उम्मीद के चिराग दिल में जलने चाहियें .
चूमेगी कामयाबी आके माथे को तेरे 
     बस इंतजार करने का कुछ सब्र चाहिए .


क्या देखता है बार-बार हाथों को तू अपने ,
   रेखाओं में नहीं बसती है तकदीर किसी की .
गर करनी है हासिल तुझे जीवन में बुलंदी 
   मज़बूत इरादों को बना पथ का तू साथी .

             शालिनी कौशिक 

                    [कौशल]

6 टिप्‍पणियां:

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

क्या देखता है बार-बार हाथों को तू अपने ,
रेखाओं में नहीं बसती है तकदीर किसी की .
गर करनी है हासिल तुझे जीवन में बुलंदी
मज़बूत इरादों को बना पथ का तू साथी .

बहुत सुन्दर रचना पहले मजबूत इरादा बढ़िया सोच फिर बढ़िया कर्म और उसकी छाया सा ही बढ़िया नतीजा .ॐ शान्ति .

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत खुबसूरत और प्रेरणा दायक रचना
latest post परिणय की ४0 वीं वर्षगाँठ !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वाह, बहुत खूब..

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

बहुत शानदार | जय हो

Archu Mishra ने कहा…

bahut khoob shalini ji

Darshan Jangara ने कहा…

बहुत खूब..

कानून पर कामुकता हावी

१६ दिसंबर २०१२ ,दामिनी गैंगरेप कांड ने हिला दिया था सियासत और समाज को ,चारो तरफ चीत्कार मची थी एक युवती के साथ हुई दरिंदगी को लेकर ,आंदोल...