सोमवार, 22 सितंबर 2014

मुल्क से बढ़कर न खुद को समझें हम,


Image result for india-pakistan friendship images
                     
''मुख्तलिफ  ख्यालात भले रखते हों ,मुल्क से बढ़कर न खुद  को समझें हम,
बेहतरी हो जिसमे अवाम की अपनी ,ऐसे क़दमों को बेहतर  समझें हम.
.........................................................................................................
है ये चाहत तरक्की की राहें आप और हम मिलके पार करें ,
जो सुकूँ साथ मिलके चलने में इस हकीक़त को ज़रा समझें हम .
................................................................................
कभी हम एक साथ रहते थे ,रहते हैं आज जुदा थोड़े से ,
अपनी आपस की गलतफहमी को थोड़ी जज़्बाती  भूल  समझें हम .
  ...........................................................................................                                 
देखकर आंगन में खड़ी दीवारें आयेंगें तोड़ने हमें दुश्मन ,
ऐसे दुश्मन की गहरी चालों को अपने हक में कभी न  समझें हम .
.................................................................................................
न कभी अपने हैं न अपने कभी हो सकते ,
पडोसी मुल्कों की फितरत को खुलके समझें हम .
..............................................................................................
कहे ये ''शालिनी'' मिल  बैठ मसले  सुलझा लें ,
अपने अपनों की मोहब्बत को अगर समझें हम .
.......................................................................
         शालिनी कौशिक 
                  [ कौशल ]

6 टिप्‍पणियां:

yashoda agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना बुधवार 24 सितम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

काश कि लोग बात को समझें-कुछ प्रयास करें !

कालीपद "प्रसाद" ने कहा…

बहुत सुन्दर सन्देश देती रचना !
: शम्भू -निशम्भु बध --भाग १

राजीव उपाध्याय ने कहा…

बहुत ही भावपूर्ण्। देशप्रेम से ओत-प्रोत जो पडोसी के फितरत से सचेत है। स्वयं शून्य

Digamber Naswa ने कहा…

है ये चाहत तरक्की की राहें आप और हम मिलके पार करें ,
जो सुकूँ साथ मिलके चलने में इस हकीक़त को ज़रा समझें हम ...

बहुत खूब ... समझनी होगी ये हकीकत सब को ...