सोमवार, 22 सितंबर 2014

मुल्क से बढ़कर न खुद को समझें हम,


Image result for india-pakistan friendship images
                     
''मुख्तलिफ  ख्यालात भले रखते हों ,मुल्क से बढ़कर न खुद  को समझें हम,
बेहतरी हो जिसमे अवाम की अपनी ,ऐसे क़दमों को बेहतर  समझें हम.
.........................................................................................................
है ये चाहत तरक्की की राहें आप और हम मिलके पार करें ,
जो सुकूँ साथ मिलके चलने में इस हकीक़त को ज़रा समझें हम .
................................................................................
कभी हम एक साथ रहते थे ,रहते हैं आज जुदा थोड़े से ,
अपनी आपस की गलतफहमी को थोड़ी जज़्बाती  भूल  समझें हम .
  ...........................................................................................                                 
देखकर आंगन में खड़ी दीवारें आयेंगें तोड़ने हमें दुश्मन ,
ऐसे दुश्मन की गहरी चालों को अपने हक में कभी न  समझें हम .
.................................................................................................
न कभी अपने हैं न अपने कभी हो सकते ,
पडोसी मुल्कों की फितरत को खुलके समझें हम .
..............................................................................................
कहे ये ''शालिनी'' मिल  बैठ मसले  सुलझा लें ,
अपने अपनों की मोहब्बत को अगर समझें हम .
.......................................................................
         शालिनी कौशिक 
                  [ कौशल ]

6 टिप्‍पणियां:

yashoda agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना बुधवार 24 सितम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

काश कि लोग बात को समझें-कुछ प्रयास करें !

कालीपद "प्रसाद" ने कहा…

बहुत सुन्दर सन्देश देती रचना !
: शम्भू -निशम्भु बध --भाग १

राजीव उपाध्याय ने कहा…

बहुत ही भावपूर्ण्। देशप्रेम से ओत-प्रोत जो पडोसी के फितरत से सचेत है। स्वयं शून्य

Digamber Naswa ने कहा…

है ये चाहत तरक्की की राहें आप और हम मिलके पार करें ,
जो सुकूँ साथ मिलके चलने में इस हकीक़त को ज़रा समझें हम ...

बहुत खूब ... समझनी होगी ये हकीकत सब को ...

मीरा कुमार जी को हटाया क्यों नहीं सुषमा जी ?

विपक्षी दलों ने जब से भाजपा के राष्ट्रपति पद के दलित उम्मीदवार श्री रामनाथ कोविंद के सामने दलित उम्मीदवार के ही रूप में मीरा कुमार जी...