रविवार, 7 नवंबर 2010

jindgi ki lalak

" देख कर तुझे पाने की ललक में,
        कर न जाएँ हम कुछ गलत कहीं ,
            तुम चीज़ ही ऐसी हो,
                 जिससे बढ़कर दुनिया में कुछ और नहीं.
कोई चाहे तुम्हे या न चाहे,
      तुम उसे मिल ही जाती हो,
           सब पूछते हैं मुझसे,
                  क्या तुम मेरी जिंदगी तो नहीं?

कोई टिप्पणी नहीं:

संभल जा रे नारी ....

''हैलो शालिनी '' बोल रही है क्या ,सुन किसी लड़की की आवाज़ मैंने बेधड़क कहा कि हाँ मैं ही बोल रही हूँ ,पर आप ,जैसे ही उसने अपन...