मंगलवार, 21 अगस्त 2012

नारी के तुल्य केवल नारी


नारी के तुल्य केवल नारी 

     
                        

क्या कभी कोई कर पायेगा 
   तुलना नारी के नाम से,
     क्या कोई अदा कर पायेगा
         सेवा की कीमत दाम से.
 
नारी के जीवन का पल-पल
   नर सेवा में समर्पित है,
      नारी के रक्त का हरेक कण
          नर सम्मान में अर्पित है.
क्या चुका पायेगा कोई नर
   प्यार का बदला काम से,
       क्या कोई अदा कर पायेगा
           सेवा की कीमत दाम से

माँ के रूप में हो नारी
  तो बेटे की बगिया सींचें,
    पत्नी के रूप में होकर वह
       जीवन रथ को मिलकर खींचें.
क्या कर सकता है कोई नर
   दूर उनको मुश्किल तमाम से,
      क्या कोई अदा कर पायेगा
         सेवा की कीमत दाम से.
 
बहन के रूप में हो नारी
    तो भाई की सँभाल करे,
      बेटी के रूप में आकर वह
         पिता सम्मान का ख्याल करे.
क्या दे पायेगा उनको वह
   जीवन के सुख आराम से,
       क्या कोई अदा कर पायेगा
          सेवा की कीमत दाम से.

         शालिनी कौशिक
            [kaushal]

10 टिप्‍पणियां:

Anil Singh ने कहा…

uttam .atiuttam
" atulniya nari huyee,tulna hai bekar,
lingbhed ki mar ne dushit kiye vichar."


DrZakir Ali Rajnish ने कहा…

इसमें तो कोई दोराय हो ही नहीं सकती।

नारी के विविध रूपों को आपने बहुत ही सुंदर तरीके से संजोया है। बधाई।

............
डायन का तिलिस्‍म!
हर अदा पर निसार हो जाएँ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

नारी विशिष्ट है..

रविकर फैजाबादी ने कहा…

बहुत बढ़िया ।

हम सहमत हैं इस भाव से ।।

dheerendra ने कहा…

नारी के होते रूप कई,सेवा करती समान
उत्तराधिकारी हर रूप में,पाने को सम्मान,,,,,,

RECENT POST ...: जिला अनूपपुर अपना,,,
RECENT POST ....: प्यार का सपना,,,,


सदा ने कहा…

उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ... आभार

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

क्या दे पायेगा उनको वह
जीवन के सुख आराम से,
क्या कोई अदा कर पायेगा
सेवा की कीमत दाम से.


बहुत सुन्दर भावमय रचना......

Rekha Joshi ने कहा…

''नारी तुम केवल श्रधा हो ''को साकार करती हुई सुंदर रचना आदरणीया शालिनी जी ,हार्दिक बधाई

Dr. sandhya tiwari ने कहा…

नारी के विविध रूपों की बहुत ही सुंदर अभिव्‍यक्ति

Madan Mohan Saxena ने कहा…

बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/

संभल जा रे नारी ....

''हैलो शालिनी '' बोल रही है क्या ,सुन किसी लड़की की आवाज़ मैंने बेधड़क कहा कि हाँ मैं ही बोल रही हूँ ,पर आप ,जैसे ही उसने अपन...