शनिवार, 10 मई 2014

बाँटो ''शालिनी''के संग रोज़ गम ख़ुशी माँ के,

Mother : illustration of mother embracing child in Mother s Day Card Stock Photo

तरक्की इस जहाँ में है तमाशे खूब करवाती ,
मिला जिससे हमें जीवन उसे एक दिन में बंधवाती .
............................................................................

महीनों गर्भ में रखती ,जनम दे करती रखवाली ,
उसे औलाद के हाथों है कुछ सौगात दिलवाती .
.......................................................................

सिरहाने बैठ माँ के एक पल भी दे नहीं सकते ,
दिखावे में उन्हीं से होटलों में मंच सजवाती .
......................................................................

कहे माँ लाने को ऐनक ,नहीं दिखता बिना उसके ,
कुबेरों के खजाने में ठन-गोपाल बजवाती .
......................................................................

बढ़ाये आगे जीवन में दिलाती कामयाबी है ,
उसी मैय्या को औलादें, हैं रोटी को भी तरसाती .
..........................................................................

महज एक दिन की चांदनी ,न चाहत है किसी माँ की ,
मुबारक उसका हर पल तब ,दिखे औलाद मुस्काती .
..........................................................................

याद करना ढूंढकर दिन ,सभ्यता नहीं हमारी है ,
हमारी मर्यादा ही रोज़ माँ के पैर पुजवाती .
.........................................................................

किया जाता याद उनको जिन्हें हम भूल जाते हैं ,
है धड़कन माँ ही जब अपनी कहाँ है उसकी सुध जाती .
...............................................................................

वजूद माँ से है अपना ,शरीर क्या बिना उसके ,
उसी की सांसों की ज्वाला हमारा जीवन चलवाती .
..........................................................................

शब्दों में नहीं बंधती ,भावों में नहीं बहती ,
कड़क चट्टान की मानिंद हौसले हममे भर जाती .
.............................................................................

करे कुर्बान खुद को माँ,सदा औलाद की खातिर ,
क्या चौबीस घंटे में एक पल भी माँ है भारी पड़ जाती .
...............................................................................

मनाओ इस दिवस को तुम उमंग उत्साह से भरकर ,
बाद इसके किसी भी दिन क्या माँ है याद फिर आती .
.............................................................................

बाँटो ''शालिनी''के संग रोज़ गम ख़ुशी माँ के,
फिर ऐसे पाखंडों को ढोने की नौबत नहीं आती .

शालिनी कौशिक
[कौशल]


9 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (11-05-2014) को ''ये प्यारा सा रिश्ता'' (चर्चा मंच 1609) में अद्यतन लिंक पर भी है!
--
मातृदिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

मर्मस्पर्शी पंक्तियाँ ..... माँ को नमन

Neeraj Kumar ने कहा…

बहुत ही सुन्दर ... माँ को समर्पित सुन्दर प्रस्तुति .. बहुत बधाई ..

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति ...!
मातृदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।
RECENT POST आम बस तुम आम हो

गिरधारी खंकरियाल ने कहा…

मातृत्व में सब कुछ समा जाता है।

गिरधारी खंकरियाल ने कहा…

मातृत्व में सब कुछ समा जाता है।

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति !
बेटी बन गई बहू

Ranjana Verma ने कहा…

बहुत ही मर्मस्पर्शी भावपूर्ण कविता.... बेहद सुन्दर प्रस्तुति !!

Ranjana Verma ने कहा…

बहुत ही मर्मस्पर्शी भावपूर्ण कविता.... बेहद सुन्दर प्रस्तुति !!

बेटी की...... मां ?

बेटी का जन्म पर चाहे आज से सदियों पुरानी बात हो या अभी हाल-फ़िलहाल की ,कोई ही चेहरा होता होगा जो ख़ुशी में सराबोर नज़र आता होगा ,लगभग...