शनिवार, 2 मई 2015

महाराष्ट्र के पांच जमातियों से बड़ौत में मारपीट बवाल कांधला में .



महाराष्ट्र के पांच जमातियों से बड़ौत में मारपीट बवाल कांधला में .कांधला अभी २०१३ के दंगों के दंश से उबर भी नहीं पाया था कि १ मई को महाराष्ट्र के पांच जमातियों से बड़ौत रेलवे स्टेशन पर हुई मारपीट ने एक बार फिर यहाँ के हिन्दू मुस्लिम प्रेम में आग लगा दी और परिणाम यह हुआ कि यहाँ इस वक़्त अघोषित कर्फ्यू की स्थिति है और यह कांधला जैसे सद्भावी नगर के लिए शर्म की बात है जिसके हिन्दू मुस्लिम प्रेम की कसमें सारी दुनिया में खायी जाती हैं इसे कलियुग का असर न कहें तो और क्या कहें .
Shamli

भाइयों के बीच ये मंथरा क्यूं आ गयी ,
त्रेता में किये काम का कलियुग में फल चखा गयी .
.............................................................................
मिल-बैठ मुश्किलों को थे गैर राह दिखा रहे ,
ये आके समझ-बूझ में आग ही लगा गयी .
.............................................................................
अमन दिलों में खूब था ,वतन ये पुरसुकून था ,
तीर ज़हर से भरे ये सबके ही चुभा गयी .
..................................................................

फिजाओं में थी बह रही हमारे प्यार की महक ,
इसी की कूटनीतियाँ खाक बनके छा गयी .
.....................................................................
आपसी सद्भाव से तरक्की जो थे पा रहे ,
तोड़ धागा प्रेम का ये खाट से लगा गयी .
..................................................................

बुजुर्गों की हिदायतें संभालती नई पीढियां ,
दबे कदम पधारकर ये दीमकें घुसा गयी .
.....................................................................
कुर्बानियों भरोसों की खड़ी थी जो इमारतें ,
बारूद की चिंगारियां ये नीव में दबा गयी .
....................................................................
ज़रा ज़रा सी बात पर प्यासे हुए हैं खून के ,
ये देखो आज भरत से राम वध करा गयी .
..................................................................
देखकर हालात ये संभल न सकी ''शालिनी ''
बुराई अब भलाई पर सहज में विजय पा गयी .
..........................................................................
शब्दार्थ -खाट से लगाना -अशक्त होना ,



   शालिनी कौशिक
               [कौशल ]





3 टिप्‍पणियां:

dj ने कहा…

ज़रा ज़रा सी बात पर प्यासे हुए हैं खून के ,
ये देखो आज भरत से राम वध करा गयी .
..................................................................
देखकर हालात ये संभल न सकी ''शालिनी ''
बुराई अब भलाई पर सहज में विजय पा गयी
बहुत ही भावपूर्ण और यथार्थपरक रचना

jyoti khare ने कहा…

भावपूर्ण और प्रभावी
उत्कृष्ट प्रस्तुति
सादर

Shakaib Alam ने कहा…

कांधला का सद्भावी स्वभाव हमेशा शान्त ही रहेगा कुछ स्वार्थी राजनेताओ की ख्वाहिशें मझदार मे ही रहेंगी

बेटी की...... मां ?

बेटी का जन्म पर चाहे आज से सदियों पुरानी बात हो या अभी हाल-फ़िलहाल की ,कोई ही चेहरा होता होगा जो ख़ुशी में सराबोर नज़र आता होगा ,लगभग...