शुभकामना देती ''शालिनी''मंगलकारी हो जन जन को .-2013



अमरावती सी अर्णवनेमी पुलकित करती है मन मन को ,
अरुणाभ रवि उदित हुए हैं खड़े सभी हैं हम वंदन को .


अलबेली ये शीत लहर है संग तुहिन को लेकर  आये  ,
घिर घिर कर अर्नोद छा रहे कंपित करने सबके तन को .


मिलजुल कर जब किया अलाव  गर्मी आई अर्दली बन ,
अलका बनकर ये शीतलता  छेड़े जाकर कोमल तृण को .


आकंपित हुआ है जीवन फिर भी आतुर उत्सव को ,
यही कामना हों प्रफुल्लित आओ मनाएं हर क्षण को .


पायें उन्नति हर पग चलकर खुशियाँ मिलें झोली भरकर ,
शुभकामना देती ''शालिनी''मंगलकारी हो जन जन को .
                     शालिनी कौशिक
                         [कौशल]


शब्दार्थ :अमरावती -स्वर्ग ,इन्द्रनगरी ,अरुणिमा -लालिमा ,अरुणोदय-उषाकाल ,अर्दली -चपरासी ,अर्नोद -बादल ,तुहिन -हिम ,बर्फ ,अर्नवनेमी -पृथ्वी 

टिप्पणियाँ

Kailash Sharma ने कहा…
बहुत सुन्दर रचना..नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!
राकेश कौशिक ने कहा…
"पायें उन्नति हर पग चलकर खुशियाँ मिलें झोली भरकर,"

सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार हम हिंदी चिट्ठाकार हैं
सुन्दर रचना ,नववर्ष मंगलकारी हो यही शुभकामनाएँ !!
सुन्दर रचना ,नया साल मंगलकारी हो यही दुआ है !!
आप सभी को नव-वर्ष 2013 मंगलमय हो।

---श्रीमती पूनम एवं विजय राजबली माथुर
संजय भास्कर ने कहा…
नव वर्ष पर बधाइयाँ !!
Sunil Kumar ने कहा…
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ........
Gajadhar Dwivedi ने कहा…
नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं
निहार रंजन ने कहा…
नव वर्ष की शुभकामनायें.
सदा ने कहा…
पायें उन्नति हर पग चलकर खुशियाँ मिलें झोली भरकर ,
शुभ दिन के साथ शुभकामनाएं
Devdutta Prasoon ने कहा…
नए वर्ष की नयी वधाई तुम को बारम्बार !
बीते हुये वर्ष का मन पर रहे न कोई भार !!
संजय भास्कर ने कहा…
नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं.....!!!
संजय भास्कर ने कहा…
नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं
पायें उन्नति हर पग चलकर खुशियाँ मिलें झोली भरकर ,
शुभकामना देती ''शालिनी''मंगलकारी हो जन जन को ...

आपको भी २०१३ की मंगल कामनाएं ...
Virendra Kumar Sharma ने कहा…
शुभ भावना ,शुभ भाव से प्रेरित अनुप्राणित रचना .शब्द कोष में इजाफा हुआ यह रचना पढ़के .अभी तक कयास लगा रहे हैं 'अर्णव नेमी 'का मतलब जिसका नाम अर्नव बोले तो समुन्दर है ?कृपया

हमारी

जिज्ञासा का शमन करें .भाषा के परिमार्जित प्रयोग में शालिनी जी का ज़वाब नहीं .शुभाशीष .
Virendra Kumar Sharma ने कहा…
शुभ भावना ,शुभ भाव से प्रेरित अनुप्राणित रचना .शब्द कोष में इजाफा हुआ यह रचना पढ़के .अभी तक कयास लगा रहे हैं 'अर्णव नेमी 'का मतलब जिसका नाम अर्नव बोले तो समुन्दर है ?कृपया

हमारी

जिज्ञासा का शमन करें .भाषा के परिमार्जित प्रयोग में शालिनी जी का ज़वाब नहीं .शुभाशीष .
बहुत ही बढ़िया

नवा वर्ष 2013 आपको सपरिवार शुभ व मंगलमय हो।


सादर
सबको नववर्ष मंगलमय हो।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

माचिस उद्योग है या धोखा उद्योग

aaj ke neta