भारत पाक एकीकरण -नहीं कभी नहीं

''भारत पाक का एकीकरण कश्मीर समस्या का एकमात्र हल -एम्.काटजू ''
    सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश से ऐसी बयानबाजी की उम्मीद शायद नहीं की जा सकती किन्तु ये शब्द सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू के ही हैं जो उन्होंने दक्षिण एशिया मीडिया आयोग के भारतीय चैप्टर की ओर से आयोजित संगोष्ठी के संबोधन में कहे .
                      भारत पाक का विभाजन ब्रिटिश हुकूमत की ''बाँटो और राज करो ''की नीति के तहत हुआ किन्तु कश्मीर राज्य कोई समस्या था ही नहीं इसे समस्या बनाया पाकिस्तान ने .कश्मीर के महाराजा हरीसिंह की तटस्थ नीति की अवहेलना करते हुए पाकिस्तान का कश्मीर को सैनिकों द्वारा हड़पने की योजना बनाना इसे समस्या के रूप में जन्म देना था . शेख अब्दुल्लाह ने पाकिस्तान से बचाव हेतु भारत से मदद मांगी और इस तरह से भारत को इस मामले में दखल देना पड़ा और तब भारत सरकार ने मदद के नाम पर कश्मीर को भारत में विलय की शर्त रखी जिसे महाराजा हरीसिंह ने मान लिया .ऐसे में एक स्वतंत्र राज्य ने अपनी इच्छा से भारत में विलय स्वीकार कर लिया था और भारतीय सेना भी पाकिस्तानी सेना को धूल चटाने वाली थी तब संयुक्त राष्ट्र में ये मामला भारत सरकार द्वारा उपस्थित करना इसे आज तक समस्या बनाये है क्योंकि अमेरिकी प्रभुत्व के अधीन संचालित संयुक्त राष्ट्र संघ अपनी सही भूमिका का निर्वाह नहीं कर रहा है जिसके चार्टर के अनुच्छेद २[४] में सदस्य राज्यों द्वारा एक दूसरे की क्षेत्रीय अखंडता तथा स्वतंत्रता में हस्तक्षेप न करने का सिद्धांत है .इसलिए ऐसे में कश्मीर समस्या को सुलझाने हेतु भारत पाक एकीकरण की बात व्यर्थ है क्योंकि पाक ऐसा राष्ट्र है जो अभी तक अविकसित है या यूँ कहें कि बर्बाद है तो गलत नहीं होगा और चूंकि एक बर्बाद व्यक्ति या राष्ट्र दूसरे व्यक्ति या राष्ट्र की बर्बादी ही सोचता है ऐसे में पाकिस्तान से किसी सद्भावना की आशा व्यर्थ है .भारत के लौह पुरुष सरदार पटेल ने कहा भी था ,''कि यदि भारत पाक का विभाजन न हुआ होता तो भारत सरकार में हर मंत्रालय में एक पाकिस्तान होता .''उनका तात्पर्य भी पाकिस्तान की ईर्ष्या- द्वेष की नीति से था और कितना सही था ये हम भी महसूस कर सकते हैं .
     मीडिया में निरंतर प्रकाशित समाचारों के अनुसार भारत में मुसलमान अल्पसंख्यक हैं तथापि इनकी श्रृद्धा पाकिस्तान में ही है जबकि वहां भारतीय मुसलमानों को ''काफ़िर ''कहा जाता है .कुछ लोगों की ''आँखों देखी और कानो सुनी ''कहें तो भारत-पाक  क्रिकेट इसका जीता जागता सबूत है .यदि भारत पाक को हरा देता है तो पाक में रह रहे हिंदूओं की मुसीबत आ जाती है और यदि पाक भारत को हरा देता है तो भारत में रह रहे मुसलमाओं की जश्न की घडी आ जाती है .पूर्व न्यायाधीश एम् .काटजू जिसे ''दिमाग में भूसा ''की संज्ञा देते हैं उसे भारतीय जनता का एक बड़ा वर्ग धर्म के प्रति कट्टरता का नाम देती है .लोगों का मानना है कि अपने धर्म का व्यक्ति भले ही अपराध में संलिप्त हो ,निंदनीय चरित्र का हो तब भी ये अन्य  धर्म के शरीफ ,ईमानदार उम्मीदवार की तुलना में ''इस्लाम खतरे में है ''सुन उसे ही वोट देते हैं .
    ऐसे में जब लोगों के दिल ही न मिलते हों तो देश  का मिलन किसी एक समस्या का समाधान न होकर अनेकों नई समस्याओं को जन्म देने वाला होगा .
                     शालिनी कौशिक
                         [कौशल ]

टिप्पणियाँ

निहार रंजन ने कहा…
देश का बंटवारा ही सबसे बड़ी भूल थी.
घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
। लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज सोमवार के चर्चा मंच पर भी है!
सूचनार्थ!
काटजू साहब को बड़बोलेपन का रोग लग चुका है !!!
विलय की तो तब सोचें जब स्वयं स्थिर रहने में सक्षम हों।
कश्मीर समस्या का जिम्मेदार केवल और केवल नेहरु और खान्ग्रेस पार्टी हैं...
यह समीकरण लगभग असंभव है. फिर ऐसी बातों पर चर्चा कर समय व्यर्थ करने जैसा है.
देश का बटवारा ही गलत हुआ,गलती चाहे जिसने भी की हो,,,और उसका परिणाम हम आज भी भुगत रहे है,,,,

recent post: रूप संवारा नहीं,,,
Virendra Kumar Sharma ने कहा…
पाकिस्तान एक दीमक ग्रस्त राष्ट्र है जिसका विखंडन रेडिओ धर्मी तत्वों की तरह हो रहा है जिसे किसी भी विध रोका नहीं जा सकता है .महज़ खामखयाली है भारत -पाक विलय .नेहरु प्रणीत है

कश्मीर समस्या जो आलमी बने रहे ताउम्र ,राष्ट्रीय होना उन्हें लघु होना दिखना ही लगा जिन्हें .खाब देखना अच्छी बात है लेकिन खाब देखो कलाम वाले प्रयत्न करो उन्हें पाने का ,खाब देखते देखते

पंडित जी को झटका तब लगा जब हिंदी चीनी भाई भाई के किरदारों ने उनकी पीठ में छुरा घोंप दिया भारत पे हमला बोल दिया .कानपुर की तब हथियार और असलाह बनाने वाली फक्ट्री में जूते बनते

थे ....छोडिये शालिनी जी बात आपके आलेख की हो रही थी जो हर मायने में एक संतुलित और तार्किक आलेख है .लघु और सुन्दर .
Virendra Kumar Sharma ने कहा…
पाकिस्तान एक दीमक ग्रस्त राष्ट्र है जिसका विखंडन रेडिओ धर्मी तत्वों की तरह हो रहा है जिसे किसी भी विध रोका नहीं जा सकता है .महज़ खामखयाली है भारत -पाक विलय .नेहरु प्रणीत है

कश्मीर समस्या जो आलमी बने रहे ताउम्र ,राष्ट्रीय होना उन्हें लघु होना दिखना ही लगा जिन्हें .खाब देखना अच्छी बात है लेकिन खाब देखो कलाम वाले प्रयत्न करो उन्हें पाने का ,खाब देखते देखते

पंडित जी को झटका तब लगा जब हिंदी चीनी भाई भाई के किरदारों ने उनकी पीठ में छुरा घोंप दिया भारत पे हमला बोल दिया .कानपुर की तब हथियार और असलाह बनाने वाली फक्ट्री में जूते बनते

थे ....छोडिये शालिनी जी बात आपके आलेख की हो रही थी जो हर मायने में एक संतुलित और तार्किक आलेख है .लघु और सुन्दर .

शालिनी जी
बहुत गंभीर विषय पर लेखनी चलाई है …
एकीकरण की बात करने वाले एम्.काटजू महोदय को भारत अथवा पाकिस्तान के नागरिकों के मन में दबी उस तरह की किसी तीव्र इच्छा और छ्टपटाहट का एहसास हुआ था क्या जो बर्लिन दीवार के दोनों तरफ़ 1990 से कुछ पहले पूरे विश्व ने देखी थी … और जिसके परिणामस्वरूप जर्मनी का पुनर्एकीकरण संभव हुआ !

पाकिस्तान की कोई बड़ी औक़ात भी नहीं है , हमारे नपुंसक शासन ने इसे व्यर्थ तरज़ीह दे'कर सर चढ़ाया हुआ है … और इस क्लीवत्व का प्रसार हम बांग्लादेश के परिप्रेक्ष में देख कर फ़ैसला कर सकते हैं कि भिखारी और कायरों के आगे झुकते जाने से भारत के मूल नागरिकों को और कितना ख़ामियाजा उठाने के लिए विवश होना पड़ सकता है !!
हक़ीक़त यह है कि विभाजन के बाद से मात्र आतंकवाद में तरक्की करने के अलावा पाकिस्तान हर मोर्चे पर चारों खाने चित हुआ है । दिन ब दिन उसकी स्थिति सरेंडर को तैयार बैठे गुर्गे जैसी होती जा रही है । पाकिस्तान पर नियंत्रण करने की सामर्थ्य वाला शासन जिस दिन भारत में आ जाएगा ,पाकिस्तान स्वयं समर्पण कर देगा …

वंदे मातरम् !
शुभकामनाओं सहित…
Virendra Kumar Sharma ने कहा…
पाकिस्तान एक राष्ट्र के रूप में अप -विकास के अग्रिम चरण में प्रवेश कर चुका है जहां उसका निरंतर विखंडन होना अब उसकी नियति है .रही बात संयुक्त राष्ट्र की उसका काम अमरीकी भू -

राजनीतिक हितों का संरक्षण करना ही रहा है .यदि संयुक्त राष्ट्र एक तटस्थ संस्था होती ,काश्मीर समस्या निपट जाती .काटजू साहब की इस बात में सारांश है :जाति से ,धर्म से आगे निकलके

बहुलांश सोच ही नहीं पाता लेकिन 90 %को बे -वकूफ कहना उनका भाषिक दारिद्र्य ही है .शब्दों का एक संस्कार ,भाषा की एक गरिमा होती है जिसकी हदों को काटजू लांघ गए हैं .
भारत पाक एकीकरण की बात सोचना ठीक वैसा होगा जैसा" आ बैल मुझे मार".पाकिस्तान विश्व में आतंकवाद का केन्द्रविंदु है .ऐसे देश जो किसी भी समय टुकडो टुकडो बंट सकते है ,भारत में मिलाने से भारत भी आतंक का केंद्र बन जायगा ओर भारत जैसा विशाल देश टुकडो में बंट जायगा .
जहाँ तक काटजू साहब का प्रश्न है ,न्यायाधीश के रूप में उनका एक सुनाम है इसलिए लोग उनसे आजके राजनीतिज्ञ जैसे भाषा की उम्मीद नहीं करते - आपका लेख विचारोत्पदक है.
भारत पाक एकीकरण की बात सोचना ठीक वैसा होगा जैसा" आ बैल मुझे मार".पाकिस्तान विश्व में आतंकवाद का केन्द्रविंदु है .ऐसे देश जो किसी भी समय टुकडो टुकडो बंट सकते है ,भारत में मिलाने से भारत भी आतंक का केंद्र बन जायगा ओर भारत जैसा विशाल देश टुकडो में बंट जायगा .
जहाँ तक काटजू साहब का प्रश्न है ,न्यायाधीश के रूप में उनका एक सुनाम है इसलिए लोग उनसे आजके राजनीतिज्ञ जैसे भाषा की उम्मीद नहीं करते - आपका लेख विचारोत्पदक है.
hindiblogdirectory ने कहा…
सादर आमंत्रण,
आपका ब्लॉग 'हिंदी चिट्ठा संकलक' पर नहीं है,
कृपया इसे शामिल कीजिए - http://goo.gl/7mRhq
madhu singh ने कहा…
bahur hi sarthak aur vicharottejk prastuti
सारगर्भित पोस्ट शिखा जी आभार |काटजू साहब अब भटके राजनेता की तरह बोलने लगे हैं |
Rajput ने कहा…
बहुत गंभीर लेख। पाकिस्तान नामक नासूर हमे न जाने कब तक झेलना पड़ेगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

माचिस उद्योग है या धोखा उद्योग

aaj ke neta