हँसे जा रहा है हँसे जा रहा है .

मृत्यु
का आलिंगन
मनुष्य के लिए
स्वयं करना
है कायरता
जीवन
व्यतीत करना
भले बने मनुज के लिए
एक विवशता
फिर भी
कायर न कहलाये
खून के घूँट पीता
जीये जा रहा है
और ईश्वर
देख अपनी माया की
सफलता
मोह की ज़ंज़ीरों में
उसे बंधा समझ
पालन के कर्त्तव्य में
होकर विफल भी
हँसे जा रहा है
हँसे जा रहा है .

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

शालिनी कौशिक
[कौशल ]

टिप्पणियाँ

Anita ने कहा…
जीवन एक विवशता नहीं जीवन तो एक उपहार है...
जीवन भी जी लेगा एक दिन।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

माचिस उद्योग है या धोखा उद्योग

aaj ke neta