शुक्रवार, 28 फ़रवरी 2014

इम्तिहान-ए-तहम्मुल लिए जा रहे हैं ये ,


Bharatiya Janata PartyNarendra Modi
सरज़मीन नीलाम करा रहे हैं ये ,
सरफ़रोश बन दिखा रहे हैं ये ,
सरसब्ज़ मुल्क के बनने को सरबराह
सरगोशी खुलेआम किये जा रहे हैं ये .
..................................
मैकश हैं गफलती में जिए जा रहे हैं ये,
तसल्ली तमाशाइयों से पा रहे हैं ये ,
अवाम के जज़्बात की मजहब से नज़दीकी
जरिया सियासी राह का बना रहे हैं ये .
......................................................
ईमान में लेकर फरेब आ रहे हैं ये ,
मजहब को सियासत में रँगे जा रहे हैं ये ,
वक़्त इंतखाब का अब आ रहा करीब
वोटें बनाने हमको चले आ रहे हैं ये .
.....................................................
बेइंतहां आज़ादी यहाँ पा रहे हैं ये ,
इज़हारे-ख्यालात किये जा रहे हैं ये ,
ज़मीन अपने पैरों के नीचे खिसक रही
फिकरे मुख़ालिफ़ों पे कसे जा रहे हैं ये .
............................................
फिरकापरस्त ताकतें उकसा रहे हैं ये ,
फिरंगी दुश्मनों से मिले जा रहे हैं ये ,
कुर्बानियां जो दे रहे हैं मुल्क की खातिर
उन्हीं को दाग-ए-मुल्क कहे जा रहे हैं ये .
.............................................
इम्तिहान-ए-तहम्मुल लिए जा रहे हैं ये ,
तहज़ीब तार-तार किये जा रहे हैं ये ,
खौफ का जरिया बनी हैं इनकी खिदमतें
मर्दानगी कत्लेआम से दिखा रहे हैं ये .
............................................
मज़रूह ज़म्हूरियत किये जा रहे हैं ये ,
मखौल मजहबों का किये जा रहे हैं ये ,
मज़म्मत करे ''शालिनी'' अब इनकी खुलेआम
बेख़ौफ़ सबका खून पिए जा रहे हैं ये .
.......
शब्दार्थ-सरबराह-प्रबंधक ,फिकरे-छलभरी बात ,तहम्मुल-सहनशीलता .

शालिनी कौशिक
[कौशल ]

कोई टिप्पणी नहीं:

कानून पर कामुकता हावी

१६ दिसंबर २०१२ ,दामिनी गैंगरेप कांड ने हिला दिया था सियासत और समाज को ,चारो तरफ चीत्कार मची थी एक युवती के साथ हुई दरिंदगी को लेकर ,आंदोल...