रविवार, 29 जून 2014

डबल ग्रुप से ऐसी बिजली

Birds On The Wire Stock Photo - 1293150Birds On The Wire Stock Photography - 1293152 
लगे हुए थे एक माह से ,हिन्दू मुस्लिम भाई ,
थम गया था जीवन सारा ,चौपट हुई कमाई .


मना रहे थे अफसरों को ,देकर दूध मलाई ,
नेताओं ने भी आकर ,पीठ थी थपथपाई .


बिलबिलाते गर्मी से ,छत पर खाट जमाई,
पंखा झलते-झलते रहते ,नींद न फिर भी आई .


धरने करते नारे गाते ,बिछा के जब चटाई,
सीधी बातों से न माने ,तब की खूब पिटाई .


लातों के इन भूतों के ,तब बात समझ में आई ,
बिजली आने की परमिशन ,ऊपर से दिलवाई .


बजे नगाड़े ढोल तमाशे ,सबने खाई मिठाई ,
गले मिले और हाथ मिलकर ,दी गयी खूब बधाई .


डबल ग्रुप से ऐसी बिजली,देख के शामत आई ,
न चमकी दिन में आकर,न रात को पड़ी दिखाई .


                 शालिनी कौशिक 
                          [कौशल]

4 टिप्‍पणियां:

Bhagirath Kankani ने कहा…

कविता को दो बार पढने के बाद भी यह समझ नहीं आया की आप क्या कहना चाहती है.

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (01-07-2014) को ""चेहरे पर वक्त की खरोंच लिए" (चर्चा मंच 1661) पर भी होगी।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

देवदत्त प्रसून ने कहा…

लम्बी अवक्धिके बाद अभिवादन !
अच्छी व्यंग्य-ग़ज़ल है!

देवदत्त प्रसून ने कहा…

लम्बी अवक्धिके बाद अभिवादन !
अच्छी व्यंग्य-ग़ज़ल है !