सोमवार, 16 जून 2014

नहीं इंसान के वश में ,


आंसू पीकर मुस्कुराना ,नहीं इंसान के वश में ,
ठोकर खाकर हँसते जाना ,नहीं इंसान के वश में .
..........................................................................................
संभलने की कोशिशें लाख ,भले ही हम यहाँ कर लें ,
ज़ख्म की टीस को सहना ,नहीं इंसान के वश में .
.................................................................................
कलेजा हो रहा छलनी ,फरेब देख अपनों के ,
मगर खुलकर ये सब कहना ,नहीं इंसान के वश में .
...........................................................................
हमारे जज़्बातों से खेलना ,फितरत में है जिनकी ,
उन्हीं के जैसे हो जाना ,नहीं इंसान के वश में .
.......................................................................
बहाये जा यूँ ही आंसू ,यही है किस्मत 'शालिनी '
कभी दुःख से निकल पाना ,नहीं इंसान के वश में .
...............................................................
शालिनी कौशिक 
     [कौशल ]

1 टिप्पणी:

Smita Singh ने कहा…


बहुत बढ़िया।