मंगलवार, 9 जून 2015

क्या करेगी जन्म ले बेटी .....


Image result for free image of sad bitiya

क्या करेगी जन्म ले बेटी यहाँ
साँस लेने के काबिल फिजा नहीं ,
इस अँधेरे को जो दूर कर सके
ऐसा एक भी रोशन दिया नहीं !
............................................................
क्या करेगी तरक्की की सोचकर
तेरे लिए ये जहाँ बना नहीं ,
हौसलों को तेरे जो पर दे सके
ऐसा दिलचला कोई मिला नहीं !
........................................................
क्या करेगी सोच साथ देने की
तेरी नहीं कोई ज़रुरत यहाँ ,
कद्र जो तेरी मदद की कर सके
ऐसा कदरदान है हुआ नहीं  !
..........................................................
क्या करेगी उनके ग़मों को बांटकर
तुझसे साझा उन्होंने किये नहीं ,
सह रही जो सदियों से तू आज तक
उनका साझीदार है यहाँ नहीं  !
.......................................................
''शालिनी''ही क्या अनेकों बेटियां
बख्तरों में बंद हो आई यहाँ ,
मुजरिमों की जिंदगी क्यूं है मिली
इसका खुलासा कभी किया नहीं !
.................................................
शब्दार्थ -दिलचला-दिलेर ,साहसी .बख्तर-लोहे का कवच .
शालिनी कौशिक
[कौशल ]

5 टिप्‍पणियां:

Arshiya Ali ने कहा…

सचमुच बहुत ज्वलंत प्रश्न। समाज को इसका उत्तर खोजना ही होगा।
............
लज़ीज़ खाना: जी ललचाए, रहा न जाए!!

Dilbag Virk ने कहा…

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 11 - 06 - 2015 को चर्चा मंच पर बरसों मेघा { चर्चा - 2003 } में दिया जाएगा
धन्यवाद

रश्मि शर्मा ने कहा…

बि‍ल्‍कुल सही लि‍खा है..;बेटि‍यों के लि‍ए अब भी खुला आसमान नहीं है।

Madan Mohan Saxena ने कहा…

भावपूर्ण प्रस्तुति.

dj ने कहा…

बहुत भावनात्मक एवं सार्थक प्रस्तुति

हस्ती ....... जिसके कदम पर ज़माना पड़ा.

कुर्सियां,मेज और मोटर साइकिल      नजर आती हैं हर तरफ और चलती फिरती जिंदगी      मात्र भागती हुई      जमानत के लिए      निषेधाज्ञा के...