सोमवार, 22 अक्तूबर 2012

दुर्गा अष्टमी की सभी को हार्दिक शुभकामनायें


दुर्गा अष्टमी की सभी को हार्दिक शुभकामनायें 

Maa Durga
शीश नवायेंगें मैया को  ;दर  पर चलकर जायेंगे ,
मैया तेरे आशीषों से खुशियाँ खुलकर पायेंगें .

[मेरा भजन मेरे स्वर में ]



हर  बेटी में रूप है माँ का इसीलिए पूजे मिलकर ;
सफल सभ्यता तभी हमारी बेटी रहेगी जब खिलकर ;
हम बेटी को जीवन देकर माँ का क़र्ज़ चुकायेंगे .
मैया तेरे आशीषों से खुशियाँ खुलकर पायेंगें .
                                                     जय माता दी !
                                              शालिनी कौशिक 
                                          [कौशल ]

7 टिप्‍पणियां:

डॉ शिखा कौशिक ''नूतन '' ने कहा…

जय माता दी !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
दुर्गाष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

आप सबको भी शुभकामनायें।

रविकर ने कहा…

जय माँ |
शुभकामनायें ||

Dheerendra singh Bhadauriya ने कहा…

दुर्गा अष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें,,,,,

RECENT POST : ऐ माता तेरे बेटे हम

Bhola-Krishna ने कहा…

शालिनी बेटा ,
अष्टमी के प्रातः उठते ही आपका आलेख पढ़ा और सस्वर गायन भी !स्वदेश से हजारों मील दूर हमारी अष्टमी आपने बना दी और मना भी दी ! आपकी इतनी सुंदर व सार्थक रचना एवं आपके भावपूर्ण मधुर गायन के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद , बधाई तथा आशीर्वाद !
आप पर माता की महती कृपा है तभी तो ऎसी रचना हुई ! उनके सिमरन मात्र से आपको प्रेरणाएँ मिलती रहेंगी !-अंकल आंटी [यू एस ए ]

kshama ने कहा…

Aapko bhee anek shubh kamnayen!

संभल जा रे नारी ....

''हैलो शालिनी '' बोल रही है क्या ,सुन किसी लड़की की आवाज़ मैंने बेधड़क कहा कि हाँ मैं ही बोल रही हूँ ,पर आप ,जैसे ही उसने अपन...