सोमवार, 8 जुलाई 2013

इमदाद-ए-आशनाई कहते हैं मर्द सारे .

Picture of Medieval King of England in the Middle Ages

हर दौर पर उम्र में कैसर हैं मर्द सारे ,
गुलाम हर किसी को समझें हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
बेटे का जन्म माथा माँ-बाप का उठाये ,
वारिस की जगह पूरी करते हैं मर्द सारे.
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
ख़िताब पाए औरत शरीक-ए-हयात का ,
ठाकुर ये खुद ही बनते फिरते हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
रुतबा है उसी कुल का बेटे भरे हैं जिसमे ,
जिस घर में बसे बेटी मुल्ज़िम हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
लड़की जो बढे आगे रट्टू का मिले ओहदा ,
दिमाग खुद में ज्यादा माने हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
जिस काम में भी देखें बढ़ते ये जग में औरत ,
मिलकर ये बाधा उसमे डाले हैं मर्द सारे .
''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
मिलती जो रियायत है औरत को हुकूमत से ,
जरिया बनाके उसको लेते हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
आरामतलब जीवन औरत के दम पे पायें ,
आसूदा न दो घड़ियाँ देते हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
पाए जो बुलंदी वो इनाने-सल्तनत में ,
इमदाद-ए-आशनाई कहते हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
बाज़ार-ए-गुलामों से खरीदकर हैं लाते ,
इल्ज़ाम-ए-बदचलन उसे देते हैं मर्द सारे.
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
मेहर न मिले मन का तो मारते जलाकर ,
खुद पे हुए ज़ुल्मों को रोते हैं मर्द सारे .
''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
हालात ''शालिनी''ही क्या -क्या बताये तुमको ,
देखो इन्हें पलटकर कैसे हैं मर्द सारे .
''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
शब्दार्थ:-ठाकुर -परमेश्वर ,कैसर-सम्राट ,आशनाई-प्रेम दोस्ती ,इमदाद -मदद ,आसूदा-निश्चित और सुखी ,इमदाद-ए-सल्तनत -शासन सूत्र .

              शालिनी कौशिक 
                    [कौशल ]



12 टिप्‍पणियां:

shikha kaushik ने कहा…

bahut khoob

Rajesh Kumari ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार ८ /७ /१ ३ को चर्चामंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है ।

kshama ने कहा…

हर दौर पर उम्र में कैसर हैं मर्द सारे ,
गुलाम हर किसी को समझें हैं मर्द सारे .
aprateem rachana....

आशा जोगळेकर ने कहा…

औरत जो कमाये कमाई तो उसकी खाये
दो बोल मीठे बोले तो कैसे वे मर्द सारे .

Ramakant Singh ने कहा…

शालिनी जी आपने बड़ी बेदर्दी से पिटाई कर दी आपका कथन गलत भी नहीं लगता लेकिन आखों में नमी है

संजय भास्‍कर ने कहा…

गजब कि पंक्तियाँ हैं ...

मोहिन्दर कुमार ने कहा…


खूबसूरत लफ़्जो और ईबारतों से तराशी गई नज्म को साझा करने के लिये शुक्रिया.

अजय कुमार ने कहा…

मेरा मानना है की सारे मर्दों पर ये लागू नहीं हो सकती --

parul chandra ने कहा…

बेबाक...सटीक... बहुत सुन्दर !

rosy daruwala ने कहा…

waah

Rohitas ghorela ने कहा…

आदिम काल पर तीक्षण प्रहार है ..आज भी सच्चाई बाकि है ..अब तो सोच बदल रही है।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

ढंग से रगड़ा है, किस बात का बदला लिया है..

हस्ती ....... जिसके कदम पर ज़माना पड़ा.

कुर्सियां,मेज और मोटर साइकिल      नजर आती हैं हर तरफ और चलती फिरती जिंदगी      मात्र भागती हुई      जमानत के लिए      निषेधाज्ञा के...