रविवार, 29 सितंबर 2013

भारत के रत्न मान पायें भारत के बाहर .

भारत के रत्न मान पायें भारत के बाहर .




नवाज शरीफ ने वैसे ''देहाती औरत ''शब्द नहीं कहा किन्तु यदि उन्होंने हमारे प्रधानमंत्री जी को देहाती औरत कहा है तो उन्होंने उनकी सही पहचान की है देहात में औरत जितनी ईमानदारी और मेहनत से काम कर अपने घर व् खेत के लिए काम करती है वैसे शहरी औरत कर ही नहीं सकती क्योंकि यहाँ वह दूसरों के लिए काम करती है और देहाती औरत अपने घर व् खेत के लिए काम करती है .

साथ ही औरत शब्द का उच्चारण उनके लिए करना उनके सम्मान को बढ़ाना ही है क्योंकि ये कहा भी गया है की अगर औरत में आदमी के गुण आ जाएँ तो वह कुलटा हो जाती है और अगर आदमी में औरत के गुण आ जाएँ तो वह देवत्व पा लेता है .

ऐसे में वे या पाकिस्तानी ने उन्हें सही तरह देश भक्त की पहचान दी है वैसे भी हमारे देश के रत्नों को देश के बाहर ही महत्व मिलता है हमारे लिए तो ''घर की मुर्गी दाल बराबर ''होती है .

शालिनी कौशिक

[कौशल ]

.

12 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (30-09-2013) गुज़ारिश खाटू श्याम से :चर्चामंच 1399 में "मयंक का कोना" पर भी है!
हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

रविकर ने कहा…

बहुत बढ़िया-
शुभकामनायें आदरणीया -

यह तो देहाती औरत का अपमान है-

तीखा हमला कर रहे, जब अपने युवराज |
इनसे आगे चल पड़े, मोदी और नवाज |
मोदी और नवाज, शराफत दोनों छोड़ें |
त्याग समर्पण कर्म, प्यार के हाथ मरोड़ें |
पी एम् गांधी भक्त, बात जनपथ की भाती |
बोलो साध्वी नारि, नहीं औरत देहाती ||

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

कालीपद प्रसाद ने कहा…

आपकी सोच तारीफ़ ए काबिल है !
नई पोस्ट अनुभूति : नई रौशनी !
नई पोस्ट साधू या शैतान

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपके विचारों से सहमत हैं,, हम !!

नई कड़ियाँ : ज्ञान - तथ्य ( भाग - 1 )

सदाबहार अभिनेता देव आनंद

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपके विचारों से सहमत हैं,, हम !!

नई कड़ियाँ : ज्ञान - तथ्य ( भाग - 1 )

सदाबहार अभिनेता देव आनंद

Kaushal Lal ने कहा…

सच्चाई या कटाक्ष?? जो भी है सुन्दर है ..

Rajesh Kumari ने कहा…

आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १/१० /१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है।

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत बढ़िया कहा,हम आपसे सहमत है!

RECENT POST : मर्ज जो अच्छा नहीं होता.

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत बढ़िया,सहमत है आपसे!

RECENT POST : मर्ज जो अच्छा नहीं होता.

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

प्रासंगिक बात सनातन सत्य। भारत में रत्न अब ऐसे ही होते हैं।

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

अब क्या करें भारत में रत्न आजकल ऐसे ही होने लगें हैं। पहले ये इंग्लैण्ड में भारत का मान बढ़ाकर आये थे।


अंग्रेजों का आभार माना था इन्होनें ,वह हमें थोड़ी तहज़ीब भी सिखा गाये ,जी हुजूरी भी ,ज्ञान विज्ञान

दे

गए।


रविवार, 29 सितम्बर 2013

भारत के रत्न मान पायें भारत के बाहर .
भारत के रत्न मान पायें भारत के बाहर .




नवाज शरीफ ने वैसे ''देहाती औरत ''शब्द नहीं कहा किन्तु यदि उन्होंने हमारे प्रधानमंत्री जी को देहाती औरत कहा है तो उन्होंने उनकी सही पहचान की है देहात में औरत जितनी ईमानदारी और मेहनत से काम कर अपने घर व् खेत के लिए काम करती है वैसे शहरी औरत कर ही नहीं सकती क्योंकि यहाँ वह दूसरों के लिए काम करती है और देहाती औरत अपने घर व् खेत के लिए काम करती है .

साथ ही औरत शब्द का उच्चारण उनके लिए करना उनके सम्मान को बढ़ाना ही है क्योंकि ये कहा भी गया है की अगर औरत में आदमी के गुण आ जाएँ तो वह कुलटा हो जाती है और अगर आदमी में औरत के गुण आ जाएँ तो वह देवत्व पा लेता है .

ऐसे में वे या पाकिस्तानी ने उन्हें सही तरह देश भक्त की पहचान दी है वैसे भी हमारे देश के रत्नों को देश के बाहर ही महत्व मिलता है हमारे लिए तो ''घर की मुर्गी दाल बराबर ''होती है .

शालिनी कौशिक

[कौशल ]

.
प्रस्तुतकर्ता Shalini Kaushik पर 12:22 pm

मीरा कुमार जी को हटाया क्यों नहीं सुषमा जी ?

विपक्षी दलों ने जब से भाजपा के राष्ट्रपति पद के दलित उम्मीदवार श्री रामनाथ कोविंद के सामने दलित उम्मीदवार के ही रूप में मीरा कुमार जी...