सोमवार, 9 सितंबर 2013

अपने सामने रखके आईना बर्बाद देश को कह गए हैं .

भाजपा-संघ बैठकः मोदी का नाम तय, समय पर सस्पेंस

अपने ख्वाबों को ये ,कुछ यूँ देते अंजाम ,
छीन निवाला बच्चों का करते लूट बबाल ,
करते लूट बबाल करोड़ों फूंके खुद पर
असली छूना कठिन चढ़ें कल्पनाओं के रथ पर .
..............................................................................
मधु का छत्ता कहने पर देश को माँ हैं कहते ,
ऐसी तुलना देख मगरमच्छ टसुएँ बहते ,
उसी देश को अपने मुख से कह गए बर्बाद
ये कहने पर क्यूं नहीं शब्द वे आये याद .
..............................................................
''देश माँ है मधुमक्खी का छत्ता नहीं '',
बर्बाद कहने में माँ को क्यूं दिल दुखा नही ,
माँ की तरक्की औलादों के दम से पाए तरक्की ,
क्यूं ऐसा कह बनाते हमको आप हैं शक्की .
......................................................................
बढ़ रहे हैं आज निरंतर जग में हिंदुस्तानी ,
भारतीय दिमाग की ताकत सारे विश्व ने मानी ,
जिसके बेटे इस दुनिया में झंडे अपने गाड़ रहे
उसका माथा आज गर्व से क्यूं नहीं ऊँचा कहें ?
...................................................................
बहक गए हैं ,फिसल गए हैं ,
चिढ में अपनी भटक गए हैं ,
अपने सामने रखके आईना
बर्बाद देश को कह गए हैं .
..............................................
शालिनी कौशिक
[कौशल ]

4 टिप्‍पणियां:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर सटीक अभिव्यक्ति,,
गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाए !

RECENT POST : समझ में आया बापू .

ajay yadav ने कहा…

सार्थक लेखन |
विश्व भर में भारतीयों का हुनर हाथो हाथ लिया जा रहा हैं ,पर भारत में ....उतनी तवज्जो क्यों नही ?
“ हर संडे....., डॉ.सिन्हा के संग !"

Devdutta Prasoon ने कहा…

गणेश-चतुर्थी की हार्दिक शुभकामना !धर्म-उत्पीडन पर खेद !!राजनीतिक हिंसा पर शोक !!!

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .
http://dehatrkj.blogspot.com

बेटी की...... मां ?

बेटी का जन्म पर चाहे आज से सदियों पुरानी बात हो या अभी हाल-फ़िलहाल की ,कोई ही चेहरा होता होगा जो ख़ुशी में सराबोर नज़र आता होगा ,लगभग...