ये देखो आज भरत से राम वध करा गयी .


शामली में बवाल, आगजनी व फायरिंग


Shamli

भाइयों के बीच ये मंथरा क्यूं आ गयी ,
त्रेता में किये काम का कलियुग में फल चखा गयी .
.............................................................................
मिल-बैठ मुश्किलों को थे गैर राह दिखा रहे ,
ये आके समझ-बूझ में आग ही लगा गयी .
.............................................................................
अमन दिलों में खूब था ,वतन ये पुरसुकून था ,
तीर ज़हर से भरे ये सबके ही चुभा गयी .
..................................................................

फिजाओं में थी बह रही हमारे प्यार की महक ,
इसी की कूटनीतियाँ खाक बनके छा गयी .
.....................................................................
आपसी सद्भाव से तरक्की जो थे पा रहे ,
तोड़ धागा प्रेम का ये खाट से लगा गयी .
..................................................................

बुजुर्गों की हिदायतें संभालती नई पीढियां ,
दबे कदम पधारकर ये दीमकें घुसा गयी .
.....................................................................
कुर्बानियों भरोसों की खड़ी थी जो इमारतें ,
बारूद की चिंगारियां ये नीव में दबा गयी .
....................................................................
ज़रा ज़रा सी बात पर प्यासे हुए हैं खून के ,
ये देखो आज भरत से राम वध करा गयी .
..................................................................
देखकर हालात ये संभल न सकी ''शालिनी ''
बुराई अब भलाई पर सहज में विजय पा गयी .
..........................................................................
शब्दार्थ -खाट से लगाना -अशक्त होना ,



   शालिनी कौशिक
               [कौशल ]





मुज़फ्फरनगर

टिप्पणियाँ

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (04-09-2013) गुरु हो अर्जुन सरिस, अन्यथा बन जा छक्का -चर्चा मंच 1359 में "मयंक का कोना" पर भी है!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
सुन्दर ग़ज़ल....खूब...
सबको सम्मति दे भगवान।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

माचिस उद्योग है या धोखा उद्योग

aaj ke neta