सौतेला तो शब्द बुरा




आमतौर पर यदि हम ध्यान दें तो जहाँ देखो सौतेली माँ की ही बुराई जोरों पर होती है.किसी भी बच्चे की माँ अगर सौतेली है तो उसके साथ सभी की सहानुभूति होती है किन्तु कहीं भी सौतेले बाप का जिक्र नहीं किया जाता जबकि मेरी अपनी जानकारी में यदि मैं देखती हूँ तो हर जगह भेदभाव ही पाती हूँ.अभी हाल में ही मेरी जानकारी की एक लड़की का निधन हो गया  वह लम्बे समय से बीमार थी किन्तु कहा गया कि लम्बे इलाज के बाद भी वह ठीक नहीं हो पाई.सभी को उसके पिता से बहुत सहानुभूति थी और सभी यही कह रहे थे कि ये तो अपनी लड़की से बहुत प्यार करते थे और दुःख में इनके आंसू थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं.ये मुझे बाद में पता चला की वह लड़की अपनी माँ के साथ आयी थी अर्थात उसकी माँ की ये दूसरी शादी थी और उस लड़की के वे दूसरे पिता थे.अब कीजिये गौर इसके दूसरे पहलू पर यदि यह स्थिति किसी महिला के साथ होती तो सब क्या कहते-''सौतेली माँ थी मगरमच्छी आंसू बहा रही थी.इसीने उसकी कोई देखभाल नहीं की इसीलिए वह मर गयी.''आखिर ये हर जगह नारी और पुरुष की स्थिति में अंतर क्यों कर दिया जाता है?
      मेरी सहेली की बहन की जिससे शादी हुई है उसके पहले से ही दो बेटियां हैं और वह उन दोनों बेटियों को भी अपने बच्चों की तरह ही पाल रही है.और ये नहीं कि ये   कोई दो दिन की बात है लगभग १५ साल पहले हुई इस शादी की सफलता मेरी सहेली की बहन पर ही निर्भर रही है.जबकि मेरे पड़ोस की ही एक लड़की जिसका तलाक हुआ है और जिसके एक लड़का है उसके दूसरी शादी होने पर उसके माता पिता ने उसके लड़के को अपने पास रखा है क्योंकि उसका दूसरा पति उसके बेटे को अपनाने को तैयार नहीं था.
                 मेरी एक सहपाठिनी मित्र जिसके पिता की मृत्यु पर उसकी मम्मी की शादी एक ऐसे पुरुष से हो गयी जिसके बच्चे भी उसके मम्मी से बड़े थे और मेरी सहपाठिनी को उसके पूर्व पिता की ओर से कुछ संपत्ति भी मिली थी किन्तु इस सबके बावजूद उसके चेहरे पर हर वक़्त सहमापन रहता था और आज अपनी छोटी बहन की शादी वह ही करवा चुकी है ओर स्वयं सरकारी नौकरी कर रही है किन्तु उसके सौतेले पिता को उसकी जिंदगी की कोई सुध नहीं.
          मेरा तो यही कहना है कि जब भी सौतेले शब्द का जिक्र हो तो केवल वही बुराई का केंद्र बिंदु हो न कि सौतेले माँ या बाप.क्योंकि जहाँ एक ओर अब्राहम लिंकन की सौतेली माँ की महानता हमारे सामने है वही सौतेले बाप द्वारा कई बच्चों को गंडासे से काटने के उदहारण भी हमारे समक्ष हैं.
                शालिनी कौशिक 

टिप्पणियाँ

Ravikar ने कहा…
* जब भी सौतेले शब्द का जिक्र हो तो केवल वही बुराई का केंद्र बिंदु हो न कि सौतेले माँ या बाप

* अब्राहम लिंकन की सौतेली माँ की महानता हमारे सामने है
Jyoti Mishra ने कहा…
yeah u r right certainly there exist some partiality in this regard...... but as we all know there is no scarcity of good people too. they just do their work without getting highlighted..... it is the bad ones who get publicity.
ZEAL ने कहा…
शालिनी जी , बहुत सुन्दर आलेख लिखा है । माँ तो माँ होती है , सौतेली कहकर किसी ममतामयी माँ का अपमान क्यूँ करें ।
Er. सत्यम शिवम ने कहा…
आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (11.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)
Harsh ने कहा…
aalekh achcha laga.........
Rachana ने कहा…
ji sahi kaha aapne shayad is aur kisi ka dhyan nahi jata .aap ke is lekh ko padh kar sabhi ek bar jarur sochenge
rachana
Patali-The-Village ने कहा…
बहुत सुन्दर आलेख लिखा है । माँ तो माँ होती है |धन्यवाद|
सौतेले अच्छे भी होते है,
बिलकुल सही ...सहमत हूँ आपसे....
Vivek Jain ने कहा…
"जब भी सौतेले शब्द का जिक्र हो तो केवल वही बुराई का केंद्र बिंदु हो न कि सौतेले माँ या बाप"
बहुत ही बढ़िया आलेख है,
साभार- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com
संगीता पुरी ने कहा…
सहमत हूं आपसे ..
G.N.SHAW ने कहा…
कुछ नहीं ...वश स्वार्थ का खेल है ....
मनोज अबोध ने कहा…
आपके ब्‍लॉग पर जाकर अच्‍छा लगा । आपकी विचारशीलता अच्‍छी है । बधाई
Minakshi Pant ने कहा…
जब भी सौतेले शब्द का जिक्र हो तो केवल वही बुराई का केंद्र बिंदु हो न कि सौतेले माँ या बाप ..बिलकुल सही बात :)
रेखा ने कहा…
आपने सही प्रश्न उठाया है और मैं आपसे सहमत हूँ.
Ravi sir, heartily congratulation apko bhi.lots of thanks for me comment

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

माचिस उद्योग है या धोखा उद्योग

aaj ke neta