शुक्रवार, 4 अप्रैल 2014

धिक्कार तुम्हे है तब मानव ||

धिक्कार तुम्हे है तब मानव ||

                                                  
आंसू न किसी के रोक सके धिक्कार तुम्हे है तब मानव |
खुशियाँ न किसी को दे सके धिक्कार तुम्हे है तब मानव ||
......................................................................................
ये जीवन परोपकार में तुम गर लगा सके तो धन्य है ,
गर स्वार्थ पूर्ति  में लगे रहो धिक्कार तुम्हे है तब मानव ||
........................................................................................
जब बनते खुशियाँ लोगों की सच्ची खुशियाँ तब पाते हो ,
जब छीनो  चैन  किसी का भी धिक्कार तुम्हे है तब मानव ||
..........................................................................................
न छीनो हक़ किसी का तुम जो जिसका  है उसको दे दो ,
जब लूटपाट मचाते  तुम धिक्कार तुम्हे है तब मानव ||
.........................................................................................
जब समझे गैर को तुम अपना तब जग अपना हो जाता है,
करते जब अपने को पराया  धिक्कार तुम्हे है तब मानव ||
......................................................................................
लायी "शालिनी"धर्मों से  कुछ बाते तुम्हे बताने  को,
न समझ  सके गर अब   भी तुम धिक्कार तुम्हे है तब मानव||
.........................................................................................
                                                शालिनी कौशिक 
                                                       {कौशल }

2 टिप्‍पणियां:

Anita ने कहा…

सुंदर संदेश देती कविता..

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत मानवता सीखना है मानव को।

शत शत नमन शंकर दयाल शर्मा जी को

विकिपीडिया से साभार   आज जन्मदिन है देश के  नौवें राष्ट्रपति  डाक्टर शंकर दयाल शर्मा जी का और वे सदैव मेरे लिए श्रद्धा के पात्र रहेंगे...