आज का युवा !




जागरूक 
सचेत 
सतर्क  
आज का युवा !
जागरूक अधिकारों के लिए 
सचेत धोखाधड़ी से 
सतर्क दुश्मनों से 
आज का युवा !
साथ ही 
कृतघ्न 
उपेक्षावान 
लापरवाह 
भी 
आज का युवा !
कृतघ्न बड़ों की सेवा में 
उपेक्षावान देश हित करने में 
लापरवाह समाज के प्रति 
जीवन के धवल स्वरुप के संग 
ये स्याह लबादा ओढ़े है ,
खुद की कमियों से हो असफल 
ये बैठ ज़माना कोसे है .

शालिनी कौशिक 
 [कौशल ]

टिप्पणियाँ

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (27-04-2014) को मन से उभरे जज़्बात (चर्चा मंच-1595) में अद्यतन लिंक पर भी है!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
Anita ने कहा…
जो सचेत है वह लापरवाह तो नहीं हो सकता..हाँ उसका अंदाज अलग हो सकता है..

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

माचिस उद्योग है या धोखा उद्योग

aaj ke neta