शनिवार, 26 अप्रैल 2014

आज का युवा !




जागरूक 
सचेत 
सतर्क  
आज का युवा !
जागरूक अधिकारों के लिए 
सचेत धोखाधड़ी से 
सतर्क दुश्मनों से 
आज का युवा !
साथ ही 
कृतघ्न 
उपेक्षावान 
लापरवाह 
भी 
आज का युवा !
कृतघ्न बड़ों की सेवा में 
उपेक्षावान देश हित करने में 
लापरवाह समाज के प्रति 
जीवन के धवल स्वरुप के संग 
ये स्याह लबादा ओढ़े है ,
खुद की कमियों से हो असफल 
ये बैठ ज़माना कोसे है .

शालिनी कौशिक 
 [कौशल ]

5 टिप्‍पणियां:

shikha kaushik ने कहा…

good one .

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (27-04-2014) को मन से उभरे जज़्बात (चर्चा मंच-1595) में अद्यतन लिंक पर भी है!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

कालीपद प्रसाद ने कहा…

आज के अ सटीक परिभाषा !
new post रात्रि (सांझ से सुबह )

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत बढ़िया !

Anita ने कहा…

जो सचेत है वह लापरवाह तो नहीं हो सकता..हाँ उसका अंदाज अलग हो सकता है..

शत शत नमन शंकर दयाल शर्मा जी को

विकिपीडिया से साभार   आज जन्मदिन है देश के  नौवें राष्ट्रपति  डाक्टर शंकर दयाल शर्मा जी का और वे सदैव मेरे लिए श्रद्धा के पात्र रहेंगे...