सोमवार, 27 जनवरी 2014

सच्चाई ये ज़माने की थोड़ी न मुकम्मल ,


ज़िंदगी उस शख्स की सुकूँ से गुज़र सकी ,
औलाद जिसकी दुनिया में काबिल न बन सकी .
.....................................
बेटे रहे हैं साथ वही माँ-बाप के अपने ,
बदकिस्मती से नौकरी जिनकी न लग सकी .
..................................................
बेटी करे बढ़कर वही माँ-बाप की खातिर ,
मैके के दम पे सासरे के सिर जो चढ़ सकी .
.............................
भाई करे भाई का अदब उसी घडी में ,
भाई की मदद उसकी गाड़ी पार कर सकी .
...............................................
बहन बने भाई की तब ही मददगार ,
अव्वल वो उससे उल्लू अपना सीधा कर सकी .
..................................................
बीवी करे है खिदमतें ख्वाहिश ये दिल में रख ,
शौहर की शख्सियत से उसकी साख बन सकी .
..............................................
शौहर करे है बीवी का ख्याल सोच ये ,
रखवाई घर की दासी से बेहतर ये कर सकी .
................................................
सच्चाई ये ज़माने की थोड़ी न मुकम्मल ,
तस्वीर का एक रुख ही ''शालिनी ''कह सकी .
....
शालिनी कौशिक
[कौशल ]

8 टिप्‍पणियां:

SATYA SHEEL AGRAWAL ने कहा…

जिन्दगी की हकीकत बयां की है आपने धन्यवाद

Digvijay Agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना बुधवार 29 जनवरी 2014 को लिंक की जाएगी...............
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

Aziz Jaunpuri ने कहा…

vichar to thik lg rahe hai mgar tasbir teji se badal rahi hai

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (28-01-2014) को "मेरा हर लफ्ज़ मेरे नाम की तस्वीर हो जाए" (चर्चा मंच-1506) पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही प्रभावी पंक्तियाँ

Kaushal Lal ने कहा…

तल्ख़ सच.... सुन्दर

ज्योति-कलश ने कहा…

कटु सत्य की सरस प्रस्तुति ..

Digamber Naswa ने कहा…

हकीकत का भाव लिए हर शेर ... लाजवाब ..