शुक्रवार, 14 मार्च 2014

सरज़मीन नीलाम करा रहे हैं ये

 
सरज़मीन नीलाम करा रहे हैं ये 
सरफ़रोश बन दिखा रहे हैं ये ,
सरसब्ज़ मुल्क के बनने को सरबराह 
सरगोशी खुले आम किये जा रहे हैं ये .
..........................................
मैकश हैं गफलती में जिए जा रहे हैं ये 
तसल्ली तमाशाइयों से पा रहे हैं ये ,
अवाम के जज़्बात की मज़हब से नज़दीकी 
जरिया सियासी राह का बना रहे हैं ये .
..........................................
ईमान में लेकर फरेब आ रहे हैं ये 
मज़हब को सियासत में रँगे जा रहे हैं ये ,
वक़्त इंतखाब का अब आ रहा करीब 
वोटें बनाने हमको चले आ रहे हैं ये .
.....................................................
बेइंतहां आज़ादी यहाँ पा रहे हैं ये 
इज़हार-ए-ख्यालात किये जा रहे हैं ये ,
ज़मीन अपने पैरों के नीचे खिसक रही 
फिकरे मुख़ालिफ़ों पे कैसे जा रहे हैं ये .
.................................................
फिरका-परस्त ताकतें उकसा रहे हैं ये 
फिरंगी दुश्मनों से मिले जा रहे हैं ये ,
कुर्बानियां जो दे रहे हैं मुल्क की खातिर 
उन्हीं को दाग-ए-मुल्क कहे जा रहे हैं ये .
............................................
इम्तिहान-ए-तहम्मुल लिए जा रहे हैं ये 
तहज़ीब तार-तार किये जा रहे हैं ये ,
खौफ का जरिया बनी हैं इनकी खिदमतें 
मर्दानगी कत्लेआम से दिखा रहे हैं ये .
..................................................
मज़रूह ज़म्हूरियत किये जा रहे हैं ये 
मखौल मज़हबों का किये जा रहे हैं ये ,
मज़म्मत करे 'शालिनी 'अब इनकी खुलेआम 
बेख़ौफ़ सबका खून पिए जा रहे हैं ये .
.....................................
शब्दार्थ-सरसब्ज़-हरा-भरा ,सरबराह-प्रबंधक ,मैकश-नशे में ,गफलती-भूल में ,इंतखाब-चुनाव ,फिकरे-छलभरी बात ,तहम्मुल-सहनशीलता ,मज़रूह-घायल ,ज़म्हूरियत-लोकतंत्र ,सरगोशी -कानाफूसी-चुगली,
........................
शालिनी कौशिक 
  [कौशल ] 

4 टिप्‍पणियां:

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

रचना बे- हद सुन्दर है चित्र से बिलकुल निरपेक्ष।

मुकाबला मोदी और कांग्रेस में है "आप "खबरों पर ग़ालिब हैं मोदी तो चुनाव से पहले ही न सिर्फ

जीत चुके हैं प्रधान मंत्री भी बन चुकें हैं रिहर्सल बाकी है।

भले "आप "फैक्टर "को अब नकारा न जा सकेगा। पब्लिक का बेरोमीटर बाँचने वाले यही कहते दिखतें हैं शालिनी जी। आप बहुत अच्छा लिख रहीं हैं बस सन्दर्भ बदल की ज़रुरत है।

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

रचना बे- हद सुन्दर है चित्र से बिलकुल निरपेक्ष।

मुकाबला मोदी और कांग्रेस में है "आप "खबरों पर ग़ालिब हैं मोदी तो चुनाव से पहले ही न सिर्फ

जीत चुके हैं प्रधान मंत्री भी बन चुकें हैं रिहर्सल बाकी है।

भले "आप "फैक्टर "को अब नकारा न जा सकेगा। पब्लिक का बेरोमीटर बाँचने वाले यही कहते दिखतें हैं शालिनी जी। आप बहुत अच्छा लिख रहीं हैं बस सन्दर्भ बदल की ज़रुरत है।

एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :http://shalinikaushik2.blogspot.in/

सरज़मीन नीलाम करा रहे हैं ये

सरज़मीन नीलाम करा रहे हैं ये
सरफ़रोश बन दिखा रहे हैं ये ,
सरसब्ज़ मुल्क के बनने को सरबराह
सरगोशी खुले आम किये जा रहे हैं ये .
..........................................
मैकश हैं गफलती में जिए जा रहे हैं ये
तसल्ली तमाशाइयों से पा रहे हैं ये ,
अवाम के जज़्बात की मज़हब से नज़दीकी
जरिया सियासी राह का बना रहे हैं ये .
..........................................
ईमान में लेकर फरेब आ रहे हैं ये
मज़हब को सियासत में रँगे जा रहे हैं ये ,
वक़्त इंतखाब का अब आ रहा करीब
वोटें बनाने हमको चले आ रहे हैं ये .
.....................................................
बेइंतहां आज़ादी यहाँ पा रहे हैं ये
इज़हार-ए-ख्यालात किये जा रहे हैं ये ,
ज़मीन अपने पैरों के नीचे खिसक रही
फिकरे मुख़ालिफ़ों पे कैसे जा रहे हैं ये .
.................................................
फिरका-परस्त ताकतें उकसा रहे हैं ये
फिरंगी दुश्मनों से मिले जा रहे हैं ये ,
कुर्बानियां जो दे रहे हैं मुल्क की खातिर
उन्हीं को दाग-ए-मुल्क कहे जा रहे हैं ये .
............................................
इम्तिहान-ए-तहम्मुल लिए जा रहे हैं ये
तहज़ीब तार-तार किये जा रहे हैं ये ,
खौफ का जरिया बनी हैं इनकी खिदमतें
मर्दानगी कत्लेआम से दिखा रहे हैं ये .
..................................................
मज़रूह ज़म्हूरियत किये जा रहे हैं ये
मखौल मज़हबों का किये जा रहे हैं ये ,
मज़म्मत करे 'शालिनी 'अब इनकी खुलेआम
बेख़ौफ़ सबका खून पिए जा रहे हैं ये .
.....................................
शब्दार्थ-सरसब्ज़-हरा-भरा ,सरबराह-प्रबंधक ,मैकश-नशे में ,गफलती-भूल में ,इंतखाब-चुनाव ,फिकरे-छलभरी बात ,तहम्मुल-सहनशीलता ,मज़रूह-घायल ,ज़म्हूरियत-लोकतंत्र ,सरगोशी -कानाफूसी-चुगली,
........................
शालिनी कौशिक
[कौशल ]

Neetu Singhal ने कहा…

कैसे गंदे हैं ये जो धोने से धूल जाते हैं, हमको देखो.....

शकुन्‍तला शर्मा ने कहा…

नरेन्द्र मोदी को बदनाम करने की साजिश , एक पार्टी द्वारा की जाती रही है पर सच्चाई यह है कि मोदी ही एक-मात्र व्यक्ति हैं जो भारत की खोई हुई प्रतिष्ठा को पुनः वापस लाने में समर्थ हैं । दुनियॉ सच्चाई जान चुकी है इसलिए उनके साथ खडी है और अब तो आप की पोल भी खुल गई है । ईश्वर करे मोदी ही प्रधानमन्त्री बनें और देश अपनी पुरानी प्रतिष्ठा को फिर पा सके ।

कानून पर कामुकता हावी

१६ दिसंबर २०१२ ,दामिनी गैंगरेप कांड ने हिला दिया था सियासत और समाज को ,चारो तरफ चीत्कार मची थी एक युवती के साथ हुई दरिंदगी को लेकर ,आंदोल...