बुधवार, 19 मार्च 2014

.....पर मोदी घबराये ,

 
राजनीति की भांग से भाजपाई मदहोश ,
मोदी चाय पीने को खो रहे अपने होश .
...............................
अटल पड़े एकांत में मांगें सबकी खैर ,
शुकर करें भगवान् का बने जो अबके गैर .
................................................
लाल कृष्ण की आँख से नित्य बहता नीर ,
मोदी लहर के अंधों को दिखे न उनकी पीर .
.......................................
जोशी सुरीली बांसुरी हो गयी अब बेसुर ,
आर.एस.एस.ने छीन ली वो आवाज़ मधुर .
......................................
टंडन बिलखत फिर रहे बातें करें उखड ,
अध्यक्ष जी ने आगे बढ़ काटी उनकी जड़ .
..........................................
जेटली ए.सी.कमरे से खुली धूप में आये ,
शायद मोदी डोर से लोकसभा मिल जाये .
..................................................
अपनी लहर है बह रही पर मोदी घबराये ,
काशी सुकून होगी दल की उन्हें तो घर ही भाये .
...................
शालिनी कौशिक 
   [कौशल ]

3 टिप्‍पणियां:

shikha kaushik ने कहा…

very very nice post .

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

सटीक प्रस्तुति...!
सपरिवार रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाए ....
RECENT पोस्ट - रंग रंगीली होली आई.

Ramakant Singh ने कहा…

laaazawab post asusual

कानून पर कामुकता हावी

१६ दिसंबर २०१२ ,दामिनी गैंगरेप कांड ने हिला दिया था सियासत और समाज को ,चारो तरफ चीत्कार मची थी एक युवती के साथ हुई दरिंदगी को लेकर ,आंदोल...