मंज़िल मिलेगी अवश्य .

 
प्रतीक्षा 
धैर्य 
विश्वास  
मंज़िल मिलेगी अवश्य !
भगवान    
के कर्म 
मनुष्य की भलाई 
हर काम 
हर बात 
का समय निश्चित 
फिर कर्म की 
पुण्य की 
क्या महत्ता ?
जीवन की 
दशा 
दिशा 
भाग्य पर निर्भर,
भाग्य 
प्रारब्ध का फल !
इस जन्म के कर्म 
अगले जन्म का 
भाग्य !
मोक्ष 
उस आत्मा को 
जो 
पाप-पुण्य से परे !
मोक्ष की आकांक्षा 
की 
गयी 
आत्मा फिर 
घिरी 
पाप-पुण्य के जाल में ,
फिर 
चाहत से 
कुछ नहीं 
अनचाहा मन 
रहे नहीं ,
रहे मात्र 
प्रतीक्षा 
धैर्य 
विश्वास 
मंज़िल मिलेगी अवश्य .

शालिनी कौशिक 
    [कौशल ]

टिप्पणियाँ

shikha kaushik ने कहा…
THAT IS THE WAY TO LIVE LIFE LIVELY .VERY NICE EXPRESSION OF FEELINGS .
Yashwant Yash ने कहा…
बहुत ही बढ़िया।

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ !


सादर
Yashwant Yash ने कहा…
आदरणीया शालिनी जी,
मुझे आप से कुछ व्यक्तिगत सलाह लेनी है। अतः कृपया अपनी ई मेल आई डी से एक टेस्ट मेल yashwant009@gmail.com पर भेज दें जिससे आप से संपर्क करने मे आसानी रहेगी।


सादर
ध्येय अवश्य मिलेगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

aaj ka yuva verg

माचिस उद्योग है या धोखा उद्योग

aaj ke neta