रविवार, 23 मार्च 2014

.............सियासत के काफिले .

हमको बुला रहे हैं सियासत के काफिले ,
सबको लुभा रहे हैं सियासत के काफिले .
.....................................................
तशरीफ़ आवरी है घडी इंतखाब की,
दिल को भुना रहे हैं सियासत के काफिले .
.....................................................
तसलीम कर रहे हैं हमें आज संभलकर ,
दुम को दबा रहे हैं सियासत के काफिले .
..................................................
न देते हैं मदद जो हमें फ़ाकाकशी में ,
घर को लुटा रहे हैं सियासत के काफिले .
.....................................................
मख़मूर हुए फिरते हैं सत्ता में बैठकर ,
मुंह को धुला रहे हैं सियासत के काफिले .
........................................................
करते रहे फरेब हैं जो हमसे शबो-रोज़ ,
उनको छुपा रहे हैं सियासत के काफिले .
......................................................
फ़ह्माइश देती ''शालिनी'' अवाम समझ ले ,
तुमको घुमा रहे हैं सियासत के काफिले .
...................................................
शालिनी कौशिक
[कौशल ]
शब्दार्थ-तशरीफ़ आवरी-पधारना ,इंतखाब-चुनाव ,फाकाकशी-भूखो मरना ,मखमूर-नशे में चूर

10 टिप्‍पणियां:

Neetu Singhal ने कहा…

बद अमनई-ओ- अख़लाक़ ने आईने शर्मसार किये..,
अब कैसी शक्ल बना रहे सियासत के काफिले.....

Neetu Singhal ने कहा…

बद अमनी-ओ-अख़लाक़ ने आईने शर्मसार किये..,
अब कैसी शक्ल बना रहे सियासत के काफिले.....

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

सुंदर सटीक गजल...!

RECENT POST - प्यार में दर्द है.

shikha kaushik ने कहा…

very nice post .congr8s

देवदत्त प्रसून ने कहा…

सभी मित्रों को होली की हार्दिक वधाई!रचना में अच्छी ढंग से बात कही है !!

देवदत्त प्रसून ने कहा…

सभी मित्रों को होली की हार्दिक वधाई !
अच्छी ढंग से सियासत पर टिप्पणी की है !

देवदत्त प्रसून ने कहा…

सभी मित्रों को होली की हार्दिक वधाई !अच्छी रचना है !

Digamber Naswa ने कहा…

सियासी के काफिले महंगे पड़ जाते है अक्सर ...

अभिषेक कुमार अभी ने कहा…

सम सामयिक प्रस्तुति बेहद खूबसूरती के साथ
बधाई

एक नज़र ''विरह की आग ऐसी है''

संजय भास्‍कर ने कहा…

वाह बहुत खूब .....और सही भी है

संभल जा रे नारी ....

''हैलो शालिनी '' बोल रही है क्या ,सुन किसी लड़की की आवाज़ मैंने बेधड़क कहा कि हाँ मैं ही बोल रही हूँ ,पर आप ,जैसे ही उसने अपन...