शनिवार, 19 अक्तूबर 2013

हुकूमत पाक की सुन ले ,समय रहते संभल जा तू .

सन्दर्भ -
सीमा पर रात भर फायरिंगpak firingजम्मू। पाकिस्तान से लगने वाला भारत का सीमावर्ती इलाका शांत होने का नाम नहीं ले रहा। शुक्रवार पूरी रात पाकिस्तान की ओर से भारत की 14 सीमा चौकियों पर गोलाबारी की गई। इस गोलाबारी से बीएसएफ के दो जवान घायल हुए हैं। कुछ गांवों को भी नुकसान पहुंचा है।
हुकूमत पाक की सुन ले ,समय रहते संभल जा तू .
सामना हिन्द से न हो ,दहल जाए न तेरा खूं !
.........................................................
सफाया तेरा कर देंगे, अगर अपनी पर आ जाएँ ,
पलट कर देख पन्नों को ,बसी होगी उनमे खुशबू !
............................................................................
न करते वार हम पहले ,नहीं करते हम मुंहजोरी,
मगर करते हैं खात्मा ,कायर न समझना तू !
..................................................................
तुम्हारी नीयत पर पाकिस्तान ,सदा शक रहता है हमको ,
न झेलेंगें मगर अब हम ,हदों को तोड़ आया तू !
.............................................................................
भरा है आज गुस्से से ,''शालिनी''के संग भारत ,
मिलेगा हर करनी का फल ,न बख्शा जायेगा अब तू !
.......................................................................
शालिनी कौशिक
[कौशल ]

6 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (20-10-2013)
शेष : चर्चा मंचःअंक-1404 में "मयंक का कोना"
पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (20-10-2013)
शेष : चर्चा मंचःअंक-1404 में "मयंक का कोना"
पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

आशा जोगळेकर ने कहा…

भरा है आज गुस्से से ,''शालिनी''के संग भारत ,
मिलेगा हर करनी का फल ,न बख्शा जायेगा अब तू !
काश, हमारे राजनीतीबाज भी यही सोचें।

Ramakant Singh ने कहा…

बेहतरीन सुंदर रचना !

दिगम्बर नासवा ने कहा…

हर कोई गुस्से में भरा है पाक की इस नापाक हरकत से ... आशा है समय रहते वो ओर सरकार भी जागेगी ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

शान्तिप्रियता को कायरता समझने का अवसर किसी को नहीं देना चाहिये।

संभल जा रे नारी ....

''हैलो शालिनी '' बोल रही है क्या ,सुन किसी लड़की की आवाज़ मैंने बेधड़क कहा कि हाँ मैं ही बोल रही हूँ ,पर आप ,जैसे ही उसने अपन...